*कारगिल युद्ध के अमर बलिदानी कै. मनोज पाण्डेय की प्रतिमा का सेना प्रमुख ने किया अनावरण* - Ideal India News

Post Top Ad

*कारगिल युद्ध के अमर बलिदानी कै. मनोज पाण्डेय की प्रतिमा का सेना प्रमुख ने किया अनावरण*

Share This
#IIN

*कारगिल युद्ध के अमर बलिदानी कै. मनोज पाण्डेय की प्रतिमा का सेना प्रमुख ने किया अनावरण*

*सीतापुर के रुढ़ा गाँव हेलीकाप्टर से पहुंचे थल सेना अध्यक्ष मनोज मुकुंद नरवाने*
शरद कपूर
सीतापुर-





अपने पराक्रम से पूरे विश्व में भारत की शान बढ़ाने वाले एवं कारगिल युद्ध में तिरंगा लहराने वाले अमर बलिदानी कैप्टन मनोज पांडे की प्रतिमा का अनावरण शुक्रवार की प्रातः थल सेना अध्यक्ष मनोज मुकुंद नरवाने ने पूरे सैनिक सम्मान के साथ किया ।
  गोरखा रेजीमेंट के द्वारा अमर बलिदानी कैप्टन मनोज पांडे के पैतृक गांव रुढ़ा में उनकी 6 फीट की प्रतिमा स्थापित की गई है, जिसका अनावरण थल सेना अध्यक्ष ने शुक्रवार को कर के अपने एक वीर सैनिक को सच्ची श्रद्धांजलि दी । अमर शहीद कैप्टन मनोज पांडे का पैतृक गांव सीतापुर जनपद के विकासखंड कमलापुर मैं है उनका यह रुढ़ा गांव लखनऊ दिल्ली हाईवे मार्ग पर  है ।जहां पर इससे पहले ही गांव के प्रवेश पर एक भव्य प्रवेश द्वार बनाया जा चुका था। अब गोरखा रेजीमेंट ने श्रद्धांजलि देते हुए गांव में उनकी प्रतिमा स्थापित की है ।कैप्टन मनोज पांडे की 
 मुकुंद नरवाने शुक्रवार की प्रातः हेलीकॉप्टर से रूढ़ा गांव पहुंचे ।
  थल सेना अध्यक्ष के रुढ़ा गांव पहुंचने से पहले सेना ने पूरे गांव को अपने कब्जे में ले लिया था, तथा चप्पे-चप्पे पर सेना के वीर जवान तैनात कर दिए गए थे ।प्रतिमा के अनावरण के पश्चात सेना की धुन पर अमर शहीद कैप्टन मनोज पांडे को सलामी दी गई।
   यहां पर आपको बताते चलें कि अपने अदम्य साहस और पर पराक्रम के दम पर कैप्टन मनोज पांडे ने कारगिल युद्ध में ना सिर्फ दुश्मनों के दांत खट्टे कर दिए थे वरन उन्होंने कारगिल की चोटी पर अपना प्यारा तिरंगा लहरा कर भारत की जीत का बिगुल भी बजाया था उस युद्ध के दौरान कैप्टन मनोज पांडे को कई गोली लग चुकी थी बुरी तरह से घायल होने के बाद भी वह पाक सैनिकों से मोर्चा लेते रहें और अपने प्राण न्योछावर करने से पहले ही पाकिस्तान की सैनिक टुकड़ी को मार गिराया था। उनके इस अदम्य साहस के लिए ही भारत सरकार ने मरणोपरांत परमवीर चक्र से उन्हें सम्मानित किया था।
 पूरे सैनिक सम्मान के साथ प्रतिमा अनावरण के पश्चात थल सेना प्रमुख कैप्टन मनोज पांडे के परिजनों के साथ साथ ग्राम वासियों से भी मिले और इस अवसर पर आयोजित एक गोष्ठी में थल सेना प्रमुख ने अमर शहीद कैप्टन मनोज पांडे के अदम साहस को ग्राम वासियों के समक्ष रखते हुए उनकी वीरता का बखान किया इस दौरान यह देखा गया कि जब सेना प्रमुख उनकी वीरता का बखान कर रहे थे तो उनके पिता सहित लगभग हर ग्राम वासी की आंखें नम हो गई थी । लेकिन आज इस रुढ़ा गांव सहित समस्त जनपद वासियों को अपने इस अमर बलिदानी कैप्टन मनोज पांडे की शहादत पर फक्र है ।

*जब तक सूरज चाँद रहेगा अमर बलिदानी कैप्टन मनोज पांडे का नाम रहेगा*

 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad