सऊदी अरब के तेल ठिकाने पर हाउती विद्रोहियों का ड्रोन और मिसाइल से हमला, तेल की कीमतें बढ़ीं - Ideal India News

Post Top Ad

सऊदी अरब के तेल ठिकाने पर हाउती विद्रोहियों का ड्रोन और मिसाइल से हमला, तेल की कीमतें बढ़ीं

Share This
#IIN




यमन के हाउती विद्रोहियों ने रविवार को सऊदी अरब के तेल उद्योग के केंद्र में ड्रोन और मिसाइलें दागीं, जिसमें रास तनुरा में एक सऊदी अरामको भी शामिल है, जो पेट्रोलियम निर्यात के लिए महत्वपूर्ण है। रियाद ने इसे वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा पर एक असफल हमला करार दिया। हमलों के बाद सऊदी अरब को अस्‍थायी रूप से आधे से अधिक तेल उत्‍पादन को बंद करना पड़ा, जिससे दुनिया भर में तेल की कीमतें बढ़ गई हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का दाम 70 डॉलर (करीब पांच हजार रुपये) प्रति बैरल के पार पहुंच गया है। इसका असर भारत पर भी पड़ सकता है। फरवरी, 2020 में दुनिया में कोरोना का असर शुरू होने के बाद से पहली बार कच्चे तेल का दाम इस स्तर पर पहुंचा है। गोल्डमैन सैक्श की रिपोर्ट में कच्चे तेल का दाम जल्द ही 80 डॉलर प्रति बैरल पर जाने का अनुमान जताया गया है। 

राजधानी सना समेत यमन के ज्यादातर हिस्सों पर कब्जा करने वाले हाउती विद्रोहियों ने दावा किया कि रविवार को सऊदी के दम्माम, एसिर और जिजैन शहरों में सैन्य ठिकानों पर भी हमले किए गए। 14 ड्रोन और आठ मिसाइलें दागी गई थीं। इधर, सऊदी के ऊर्जा मंत्रालय ने बताया कि रास तनुरा में स्थित एक तेल भंडारण यार्ड पर ड्रोन से हमला किया गया। जबकि रक्षा मंत्रालय ने कहा कि सशस्त्र ड्रोन को लक्ष्य तक पहुंचने से पहले ही मार गिराया गया। एक बैलिस्टिक मिसाइल धहरान में एक रिहायशी परिसर के समीप आकर गिरी। इस परिसर का इस्तेमाल सरकारी तेल कंपनी अरैमको करती है। अरैमको दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी है। यहां किसी संपत्ति को नुकसान होने की खबर नहीं है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad