पिता की दूसरी शादी की वैधता को चुनौती दे सकती है बेटी-बॉम्बे हाईकोर्ट - Ideal India News

Post Top Ad

पिता की दूसरी शादी की वैधता को चुनौती दे सकती है बेटी-बॉम्बे हाईकोर्ट

Share This
#IIN


Sanjay Chaturvedi and Shri Dhar Tiwari 

मुंबई

 बॉम्बे हाईकोर्ट ने दूसरी शादी की वैधता के सिलसिले में बुधवार को एक बड़ा फैसला दिया। अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि एक बेटी अपने पिता की दूसरी शादी की वैधता को अदालत में चुनौती दे सकती है। जस्टिस आर डी धनुका  और जस्टिस वीजी बिष्ट की पीठ ने अपने फैसले में 66 वर्षीय महिला की याचिका स्वीकार कर ली जिसमें परिवार अदालत के एक आदेश को चुनौती दी गई है।

दरअसल याचिकाकर्ता महिला ने अपने पिता (दिवंगत) की दूसरी शादी की वैधता को चुनौती देते हुए साल 2016 में परिवार अदालत में एक याचिका दाखिल की थी। महिला ने याचिका में दलील दी थी कि उसके पिता ने उसकी मां की साल 2003 में मृत्यु हो जाने के बाद दूसरी शादी कर ली थी लेकिन पिता की मृत्यु के बाद साल 2016 में उसे पता चला कि उसकी सौतेली मां ने अपनी पिछली शादी से तलाक नहीं लिया है।

दरअसल, परिवार अदालत ने अपने आदेश में कहा था कि वैवाहिक संबंध के सिर्फ पक्षकार ही शादी की वैधता को चुनौती दे सकते हैं। याचिकाकर्ता बेटी ने दलील दी कि उसके पिता की दूसरी शादी को इसलिए वैध नहीं माना जा सकता है क्‍योंकि सौतेली मां ने पूर्व शौहर से अभी तलाक नहीं लिया है। वहीं महिला की सौतेली मां की ओर से परिवार अदालत में दलील दी गई कि याचिकाकर्ता का इस विषय में दखल देने का कोई कानूनी अधिकार नहीं है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि वैवाहिक संबंध में सिर्फ दो पक्ष (पति और पत्नी) ही शादी की वैधता को चुनौती दे सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad