बच्चों व किशोरों की शुरू हुई करेक्टिव सर्जरी,दिव्यांगता से मिलेगा छुटकारा, - Ideal India News

Post Top Ad

बच्चों व किशोरों की शुरू हुई करेक्टिव सर्जरी,दिव्यांगता से मिलेगा छुटकारा,

Share This
#IIN


Dr. Tanveer Ahmad and Parshant Shukla

अयोध्या

 सोहावल के सोखावां निवासी सुरेंद्र कुमार पेशे से कृषक हैं। उनके 15 वर्षीय पुत्र ध्रुव कुमार को बाएं पैर में दिव्यांगता है। सुरेंद्र मिश्र बताते हैं कि जब ध्रुव तीन दिन के थे, तब से उनके पैर का इलाज शुरू किया था। कई चिकित्सकों को दिखाया। विशेष किस्म का जूता बनवाया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

कहते हैं, 'मैं ध्रुव की दिव्यांगता को अपनी किस्मत मान चुका था, लेकिन अब उम्मीद है कि ध्रुव सामान्य बच्चों की तरह चल सकेंगे।' इस विश्वास के पीछे खास वजह है। सोमवार को जिला चिकित्सालय में उनके पुत्र की करेक्टिव सर्जनी हुई और सिर्फ वह ही नहीं, बल्कि उन जैसे 12 बच्चों व किशोरों के माता-पिता उम्मीदजदा हैं।

दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग की करेक्टिव सर्जरी योजना की शुरुआत सोमवार को हुई। प्रथम चरण में जिला चिकित्सालय में 12 बच्चों व किशोरों की सर्जरी की गई। चिकित्सालय में जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बच्चों व किशोरों को भर्ती करने के लिए बने वार्ड का फीता काट कर योजना की शुरुआत की। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को लोगों को स्वास्थ्य से संबंधित योजनाओं की जानकारी देने का भी निर्देश दिया। जिला चिकित्सालय के सर्जन डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने बच्चों का ऑपरेशन किया। चिकित्सालय के सीएमएस डॉ. सीबीएन त्रिपाठी की अगुवाई में हुई सर्जरी में चिकित्सक डॉ. सुरेश पटारिया ने भी अहम भूमिका निभाई। इस अभियान के लिए 11 ब्लॉकों में 14 वर्ष तक के 50 बच्चों को चिह्नित किया गया है। रुदौली व मवई के 12, मसौधा, पूरा व मया के आठ, मिल्कीपुर व हरिग्टनगंज के 12, बीकापुर व तारुन के 11 व सोहावल के आठ बच्चों का ऑपरेशन होना है। इन्हीं में से चयनित 12 का बच्चों का सोमवार को ऑपरेशन किया गया। इनमें छह बच्चे सोहावल, तीन मयाबाजार व दो पूरा के हैं। एक बच्चा मसौधा का है। जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी जयनाथ गुप्त ने बताया कि शेष 38 बच्चों की करेक्टिव सर्जरी चरणवार जिला चिकित्सालय एवं मेडिकल कालेज में होगी। इस मौके पर सीडीओ प्रथमेश कुमार, डॉ. एके पांडेय आदि थे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad