किसान नेता की हत्या से गहमागहमी - Ideal India News

Post Top Ad

किसान नेता की हत्या से गहमागहमी

Share This
#IIN




Dr.S.K.Maurya
अयोध्या
 हमले में घायल किसान नेता रमाकांत तिवारी की मौत के बाद गहमागहमी बढ़ गई है। रमाकांत संयुक्त किसान मोर्चा व नव भारतीय किसान संगठन से जुड़े थे। गुरुवार को किसान संगठनों ने वारदात पर आक्रोश जाहिर करते हुए शहर में तहसील सदर के निकट हेमूकालाणी पार्क में प्रदर्शन किया। संगठन के साथ मृतक के स्वजन भी शामिल रहे। किसान संगठनों की मांग है कि मृतक के स्वजनों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता व आश्रित को सरकारी नौकरी दी जाए और मृतक के स्वजनों पर दर्ज की गई प्राथमिकी रद की जाए। विपक्षियों को तत्काल गिरफ्तार करते हुए लापरवाह पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई हो। मौके पर पहुंचे एएसपी सिटी विजयपाल सिंह ने मांग पत्र प्राप्त करने के उपरांत लोगों को समझाकर शांत कराया। रुदौली प्रतिनिधि के अनुसार लखनऊ से शव लेकर अयोध्या जा रहे मृतक के स्वजनों को पुलिस ने नेशनल हाइवे पर कुढा सादात मंडी मोड़ के पास रोक लिया। नाराज स्वजन एवं भाकियू नेताओं ने शव हाईवे पर रखकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। मौके पर पहुंचे विधायक रामचंद्र यादव ने लोगों को समझा बुझाकर शांत कराया और कार्रवाई होने का आश्वासन दिया। अमानीगंज प्रतिनिधि के अनुसार घटना गत मंगलवार की है। खंडासा थाना क्षेत्र के सहजनमऊ निवासी रमाकांत तिवारी का विपक्षी पवन तिवारी से विवाद हो गया। आरोप है कि पवन पक्ष से पहुंचे लोगों ने रमाकांत पर हमला कर दिया। बीच बचाव में रमाकांत की पत्नी कृष्ण कुमारी और पुत्र सूरज को भी चोटें आई हैं। घायल रमाकांत को लखनऊ ट्रामा सेंटर में भर्ती किया गया था, जहां बुधवार को उनकी मौत हो गई। मृतक के स्वजनों की तहरीर पर पवन तिवारी, रमेश ओझा, पंकज, राजेंद्र, आशीष तिवारी, विनीत तिवारी, साधूराम, रविद्र के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। थानाध्यक्ष नीरज सिंह ने बताया कि प्राथमिकी में हत्या की धारा बढ़ाई जाएगी।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad