सुरक्षित है भारतीय कोरोना वैक्‍सीन: शरीर में प्रतिरोधात्मक शक्ति विकसित करना ही एकमात्र हल - Ideal India News

Post Top Ad

सुरक्षित है भारतीय कोरोना वैक्‍सीन: शरीर में प्रतिरोधात्मक शक्ति विकसित करना ही एकमात्र हल

Share This
#IIN





कोरोना संक्रमण का प्रसार एक बार फिर बढ़ता जा रहा है। हालांकि देश में कोरोना टीकाकरण का काम भी जारी है। वैसे पूर्व में यह निर्णय लिया गया था कि सभी स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण पूरा होने के बाद ही इसे अन्य लोगों को दिया जाएगा, लेकिन संक्रमण से बचाव और टीकों की उपलब्धता को देखते हुए सरकार ने त्वरित निर्णय लिया कि एक मार्च यानी आज से 60 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को और 45 वर्ष से अधिक उम्र के संबंधित बीमारों को भी निर्धारित शुल्क लेकर टीका उपलब्ध कराया जाएगा। वैसे इस संदर्भ में दुष्प्रचार भी शुरू हो गया है, लेकिन उससे बचने की जरूरत है ।
भारत सरकार ने जनवरी के मध्य से कोरोना महामारी से निपटने हेतु देश में ही वैक्सीन विकसित कर स्वास्थ्यकíमयों और कोरोना के खिलाफ सीधे तौर पर युद्ध में संलग्न पुलिसकर्मियों समेत लगभग तीन करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने की मुहिम शुरू कर दी थी। हालांकि कुछ निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा उसके पहले से ही स्वदेशी वैक्सीन के खिलाफ दुष्प्रचार भी शुरू कर दिया गया था। इस दुष्प्रचार और कुछ अन्य कारणों से कुछ लोग वैक्सीन के प्रति हतोत्साहित हो रहे हैं। इस कारण से प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील की है कि वे इस दुष्प्रचार से प्रभावित न हों। प्रधानमंत्री, स्वास्थ्यमंत्री और सरकारी प्रतिनिधियों के द्वारा बार-बार यह समझाया भी जा रहा है कि भारतीय वैक्सीन सुरक्षित भी है और प्रभावी भी।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad