बर्ड फ्लू के दौरान चिकन खाना कितना सुरक्षित? - Ideal India News

Post Top Ad

बर्ड फ्लू के दौरान चिकन खाना कितना सुरक्षित?

Share This
#IIN



DR RJ GUPTA
आपने 'बर्ड फ्लू' के बारे में कई बार सुना होगा। यह पक्षियों में होने वाले फ्लू का मानव संस्करण है जिसे "एवियन इन्फ्लूएंजा" कहा जाता है। शुरुआत में ऐसा माना जा रहा था कि स्पेनिश फ्लू की तरह बर्ड फ्लू भी इंसानों में महामारी का रूप ले लेगा, हालांकि ऐसा कभी नहीं हुआ। देखा जाए तो इंसानों में बर्ड फ्लू का इतिहास काफी छोटा है। इंसानों में एविएन इन्फ्लुएन्ज़ा यानी बर्ड फ्लू से संक्रमण का पहला मामला 1997 में सामने आया था। इस संक्रमण की शुरुआत पक्षियों से होती है। अगर कोई इंसान को संक्रमित पक्षियों या उनके संक्रमित पंख या मल के संपर्क में आए, तो उसे भी बर्ड फ्लू हो सकता है। 
बर्ड फ्लू यानी एविएन इन्फ्लुएन्ज़ा एक संक्रामक बीमारी है। इन्फ्लुएन्ज़ा वायरस का ये एक स्ट्रेन आमतौर पर पक्षियों को प्रभावित करता है। 90 के दशक में बर्ड फ्लू की नई किस्म की पहचान सामने आई थी। बर्ड फ्लू का नया स्ट्रेन गंभीर बीमारी और मौत का कारण बनने खासकर घरेलू पक्षियों जैसे बत्तख, मुर्गी और टर्की में। उस स्ट्रेन को अत्यधिक रोगजनक यानी बहुत गंभीर और संक्रामक एविएन इन्फलुएन्ज़ा कहा गया और उसका नाम H5N1 दिया गया। वायरस संक्रमित पक्षियों से फैलता है। सेहतमंद पक्षी संक्रमित पक्षियों के दूषित मल या पंख से संक्रमित हो जाते हैं।


जब भी बात बर्ड फ्लू की आती है तो सबका ध्यान चिकन और अंडो पर चला जाता है। आपतो बता दें कि ये बीमारी मुर्गी खाने से नहीं होती, अगर चिकन क ढंग से पकाया जाए, तो आप इसे आराम से खा सकते हैं। 

संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिकारियों को जारी किए गए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के संयुक्त बयान के अनुसार, अगर खाने को ठीक से पकाया जाता है, तो चिकन, टर्की या अन्य ऐसी चीज़ें खाने के लिए सुरक्षित हैं। हालांकि, साथ ही ये साफ किया कि इस बात का ख्याल रखना भी ज़रूरी है कि संक्रमित पक्षी इस फूड चेन का हिस्सा न बन जाएं। WHO ने कहा कि जिन क्षेत्रों में पोल्ट्री में एवियन इन्फ्लूएंज़ा का प्रकोप नहीं है, वहां इसे खाने से संक्रमण या मौत का ख़तरा नहीं है। अभी तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है जिसमें मांस खाने से किसी को फ्लू हुआ हो। ये बीमारी आमतौपर पर पक्षियों से पक्षियों में फैलती है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad