इस महीने से आम लोगों को मिल सकती है वैक्सीन - Ideal India News

Post Top Ad

इस महीने से आम लोगों को मिल सकती है वैक्सीन

Share This
#IIN



DR RJ GUPTA
 देश में कोरोना वायरस को शिकस्त देने के लिए कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत की। टीकाकरण अभियान के पहले चरण में डॉक्टर, नर्स सहित सेवा करने वाले योद्धाओं को वैक्सीन लगाई जाएगी। वहीं, दूसरे चरण में वयस्क व्यक्तियों को (जिनकी उम्र 50 वर्ष से अधिक है या किसी अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं ) दी जाएगी। सरकारी आंकड़ों की मानें तो 27 करोड़ वयस्क नागरिकों को कोरोना वैक्सीन लगाई जाएगी। जबकि, आम लोगों को वैक्सीन के लिए थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है। इस बारे में जानकारों का कहना है कि 30 करोड़ लोगों के टीकाकरण के बाद कोरोना वायरस का असर कम अथवा खत्म होने लगेगा। इससे मृत्यु दर घटकर शून्य हो जाएगी। इसके बाद ही आम लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि अगले छह महीने में आम लोगों को भी कोरोना वैक्सीन दी जाएगी। आइए वैक्सीन से जुड़े तथ्यों पर नजर डालते हैं

फ़िलहाल लोगों को दो वैक्सीन लगाई जाएगी। ये दोनों वैक्सीन भारत में बनी हैं। पहली वैक्सीन का नाम कोवीशील्ड है जो पुणे में बनी है। वहीं, दूसरी वैक्सीन का नाम कोवैक्सीन है। कोवैक्सीन हैदराबाद में बनी है।

-हर एक व्यक्ति को दो वैक्सीन लगाई जाएगी और दोनों एक ही वैक्सीन की डोज होगी। वैक्सीन चयन की सुविधा नहीं दी गई है। हालांकि, दोनों डोज के बीच एक महीने का अंतर होगा।

-आपात स्थिति में भी बच्चों को टीका नहीं दिया जाएगा। 18 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति को ही कोरोना वैक्सीन दी जाएगी।

-गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी कोरोना वैक्सीन नहीं दी जाएगी।

-ऐसे लोग जो बीमार हैं, या जिन्हें एंटी सार्स मोनोक्लोनल एंटीबाडी या प्लाज्मा दिया गया है। उन्होंने ठीक होने के दो महीने बाद ही वैक्सीन दी जाएगी।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad