लाल किले की पुलिस बैरक में डरे सहमे बैठे रहे बच्चे और कलाकार - Ideal India News

Post Top Ad

लाल किले की पुलिस बैरक में डरे सहमे बैठे रहे बच्चे और कलाकार

Share This
#IIN


DR AK GUPTA

नई दिल्ली

राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल होना कलाकारों और छात्रों के लिए गौरव का लम्हा होता है, लेकिन इस बार बाल कलाकारों के लिए परेड का समापन डरावना रहा। विभिन्न झांकियों में शामिल करीब 50 बच्चे और 100 युवा व वरिष्ठ कलाकारों के लिए लाल किला परिसर में उपद्रवियों की हिंसा किसी आतंकी घटना से कम नहीं थी। बाहर हिंसा हो रही थी तो अंदर पुलिस बैरक में तकरीबन सात घंटे तक ये बच्चे जान बचाकर भूखे-प्यासे छिपे रहे। इनमें से कई का तो रो रोकर बुरा हाल था। पुलिस वाले इन्हें किसी प्रकार मनाने की कोशिश में जुटे रहे। कलाकारों को लग रहा था कि जैसे कोई आतंकी हमला हो गया है। इसलिए उन्हें छिपाकर ले जाया जा रहा है।

बता दें कि करीब 12:30 बजे सारी झांकियां राजपथ और पुरानी दिल्ली से होते हुए लाल किला परिसर में पहुंचीं। यहां बच्चों को जलपान देने का कार्य हो ही रहा था कि अचानक पुलिस को उपद्रवियों के लाल किला पहुंचने की सूचना मिली। आनन फानन में सभी कलाकारों को लाल किला की पुलिस अपने बैरक में लेकर पहुंच गई। इसके साथ ही बड़ी संख्या में बैरक में पुलिस की तैनाती कर दी गई। हालांकि उपद्रवियों इस ओर नहीं आए, लेकिन बाहर भीड़ का शोर इन्हें दहशत में डाले हुए था। जैसे-जैसे पुलिस बल की संख्या लाल किला परिसर में पहुंची तो प्राचीर को खाली कराया। इसके बाद तकरीबन शाम सात बजे इन बच्चों को बैरक से बाहर निकाला गया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad