नए वर्ष में अंगूर की बेटी ने अपने आधे दर्जन से ऊपर आशिकों की ली कैमूर मैं जान - Ideal India News

Post Top Ad

नए वर्ष में अंगूर की बेटी ने अपने आधे दर्जन से ऊपर आशिकों की ली कैमूर मैं जान

Share This
#IIN
कमल कुमार कश्यप
 रांची झारखंड बिहार


  नए वर्ष में अंगूर की बेटी ने अपने आधे दर्जन से ऊपर आशिकों की ली कैमूर मैं जान 
सरकार द्वारा शराब बंद होने के बावजूद भी अंगूर की बेटी को इधर से उधर करने वाले  माफियाओं द्वारा घर घर शराब पहुंचाने का कार्य बदस्तूर जारी है| इसके चलते आए दिन सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं, शराब के सेवन से अब तक 8 लोग सड़क दुर्घटना में असमय काल के गाल में समा चुके हैं |लोगों का कहना है कि शराब माफियाओं को पता था कि कैमूर डीएम नवल कुमार चौधरी व एसपी दिल वाज अहमद खान का ट्रांसफर हो गया है| ट्रांसफर होने की खुशी में शराब माफियाओं का तांडव पूरे जनपद में देखने को मिला |

ज्ञात हो कि भभुआ थाना क्षेत्र के इटाढी गांव निवासी संतोष कुमार पटेल, आशुतोष कुमार पटेल, मोहनिया थाना के  बघनी कला गांव निवासी विजय पटेल, विनय पांडे, मनु चौधरी, रामगढ़ थाना के बंदी पुर गांव निवासी प्रमोद चौधरी व बेलाव थाना के बड़का गांव निवासी कृष्ण नंदन उर्फ पप्पू पांडे सोनहन थाना के मचहलपुर गांव निवासी देवेंद्र मिश्रा का मौत अंगूर की बेटी ने लिया है| यह सभी लोग शराब के प्रेमी थे, लेकिन पुलिसकर्मी सभी अधिकारियों के जाने की खुशी में अपने फर्ज को भूल गए युवा वर्ग नए वर्ष में जश्न मनाने के तांडव में सड़क दुर्घटना में बेमौत मारे गए| जनपद के 8 युवाओं की मौत से उनके परिजनों में कोहराम मचा हुआ है| ग्रामीणों का कहना है कि बिहार में शराबबंदी कागजों पर सिमट कर रह गया है |शराब माफियाओं के द्वारा डोर टू डोर शराब पहुंचाने का कार्य धड़ल्ले से किया जा रहा है| इसके चलते आए दिन युवा असमय काल के गाल में समा रहे हैं
वहीं कुछ जानकारों का कहना है कि उत्तर प्रदेश सीमा से सटे बिहार बॉर्डर में आसानी से शराब की खेप पहुंच जाती है| पुलिस और नशे बाजो में तू डाल डाल मैं पात पात वाली कहावत चरितार्थ हो रही है| वैसे जिलाधिकारी और कैमूर पुलिस कप्तान के जाने के बाद से ही तस्कर बेनकाब हो कर बेकाबू हो गए हैं | बिहार का कैमूर जिला उत्तर प्रदेश का बॉर्डर होने के वजह से शराबियों की चादी हमेशा रही है| दिन में बिहार में और शाम होते-होते उत्तर प्रदेश में किसी न किसी तरीके से यह अपना एक चक्कर लगा लेते हैं| जिससे उनकी खुराक मिल जाती है और रात होते-होते बिहार में पहुंच जाते हैं |वैसे कैमूर जिले के डुमरिया के पहाड़ के समीप 2000 लीटर महुआ शराब कैमूर पुलिस ने पकड़ा था, जिसके तहत आधे दर्जन से ऊपर व्यक्तियों को पुलिस ने गिरफ्त में लेकर पूछताछ की थी|

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad