स्रोत पर आयकर की कटौती एवं संग्रहण विषय पर संगोष्ठी आयोजित* - Ideal India News

Post Top Ad

स्रोत पर आयकर की कटौती एवं संग्रहण विषय पर संगोष्ठी आयोजित*

Share This
#IIN 
शरद कपूर सीतापुर
*स्रोत पर आयकर की कटौती एवं संग्रहण विषय पर संगोष्ठी आयोजित*


सीतापुर- 
जिलाधिकारी कार्यालय के अंतर्गत आने वाले समस्त विभागों में आयकर कटौती को लेकर जागरूकता लाने के उद्देश्य से गुरुवार को कोषागार भवन में कार्यशाला का आयोजन किया गया । इस बैठक की अध्यक्षता आयकर विभाग की वरिष्ठ श्रीमती जहान्वी मोहन ने किया । इस अवसर पर आहरण एवं अन्य वितरण अधिकारी उपस्थित रहे ।
   संगोष्ठी के संयोजक आयकर अधिकारी (टीडीएस) सीतापुर वीरेंद्र सिंह ने कहा कि  ऐसा देखने में आता है कि आहरण एवं वितरण अधिकारी द्वारा अपने कर्मचारियों की आय एवं अनुबंध भुगतान पर टैक्स की कटौती की जाती है परंतु टीडीएस का स्टेटमेंट फाइल नहीं किया जाता है या टीडीएस की कटौती ही नहीं की जाती है । उनके द्वारा संगोष्ठी में टीडीएस से संबंधित विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की गई । इस दौरान आहरण एवं वितरण अधिकारियों द्वारा रखी गई समस्या का निराकरण भी किया गया । उन्होंने बताया कि कटौती अधिक में टीडीएस से संबंधित विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की गई आयकर विभाग के अन्य अधिकारियों ने अपने संबोधन में कहा कि समस्या का निराकरण किया जाएगा इस अवसर पर लोगों के द्वारा रखी गई कई समस्याओं का निराकरण भी मौके पर किया गया प्रत्येक तिमाही के अंत में के अगले महीने आखिरी तारीख तक टीडीएस का रिटर्न को कटौती ओ का विवरण देना होता है अतः इस बात का ध्यान रखा जाए कि टीडीएस का विवरण समय पर उपलब्ध करा दिया जाए इसके अतिरिक्त संगोष्ठी में ठेकेदारों आदि को 30 हजार से अधिक के भुगतान पर उचित दर पर आयकर की कटौती करने का निर्देश दिया गया सभी आहरण एवं वितरण अधिकारियों से अपील की गई कि वे आयकर अधिनियम के कर कटौती संबंधी कायदे कानून के तहत ही कार्य करते हुए भारत सरकार के राजस्व ग्राम में अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करें संगोष्ठी के अंत में आयकर अधिकारी ने सभी को धन्यवाद देते हुए कहा कि आयकर अधिनियम का अनुपालन करना हम सभी की जिम्मेदारी है इसमें किसी भी प्रकार की त्रुटि के साथ छह जुर्माना या प्याज के साथ-साथ अभियोजन की कार्यवाही की जा सकती है इस कार्यशाला में आयकर अधिकारी वीरेंद्र सिंह अतिरिक्त आयकर निरीक्षक अंकुर पांडे आलोक सक्सेना आदि मौजूद रहे ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad