शिक्षित महिलाएं संकल्प के साथ समाज से दहेज प्रथा, बाल प्रथा जैसी कुरीति को हटाने का कार्य करें : आनंदी बेन पटेल - Ideal India News

Post Top Ad

शिक्षित महिलाएं संकल्प के साथ समाज से दहेज प्रथा, बाल प्रथा जैसी कुरीति को हटाने का कार्य करें : आनंदी बेन पटेल

Share This
#IIN

डा यू एस भगत वाराणसी
शिक्षित महिलाएं संकल्प के साथ समाज से  दहेज प्रथा, बाल प्रथा जैसी कुरीति को  हटाने का कार्य करें : आनंदी बेन पटेल




 वाराणसी। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बीएचयू में आयोजित आंगनवाड़ी प्रशिक्षण कार्यक्रम में दूसरे दिन मंगलवार को "मातृ शिक्षा एवं शिशु की देखभाल" विषय पर एक प्रशिक्षिका की भूमिका में दृष्टांतो का उदाहरण देते हुए संबोधन किया। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकत्री सौभाग्यशाली है कि वह माताएं हैं और टीचर भी हैं। बच्चों को जन्म देती हैं और फिर राह दिखाती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में महिलाओं की अधिक जरूरत है। शिक्षा में लगभग 60 फ़ीसदी व आंगनवाड़ी में 100 फ़ीसदी महिलाएं काम कर रही हैं। बाल विकास महिला कल्याण विभाग में गांव से लेकर ऊपर तक महिलाओं की चैन है। घर पर 3 वर्ष तक माताएं बच्चों को संस्कार देती हैं। 9 माह गर्भ में रखती है। उसके पूर्व किशोरी होती है। किशोरावस्था से ही महिलाओं को जानकार व कुशल बनाना है। समस्त किशोरी का हीमोग्लोबिन चेक हो और उसे ठीक रखा जाए। गर्भ के दौरान महिलाओं को कैसे रहना है क्या खाना है। प्रसन्न चित्त वातावरण घर में रखें। गर्भ संस्कार क्या है इसका कोर्स कराएं। गर्भस्थ शिशु पर माता की मनः स्थिति, वातावरण, खानपान का प्रभाव पड़ता है। राज्यपाल ने कई उदाहरण भी बताएं। जन्म के बाद बच्चों को कैसे रखें व खान-पान पर बताया। छोटा बच्चा घर में माता-पिता की बातचीत, व्यवहार तथा उसके साथ हो रहे व्यवहार को बहुत नोटिस करता है। जो उसके जीवन व्यवहार में ढलता है। बच्चों को आदर्श कहानी, उत्तम चरित्र की कथाएं बताएं तथा ऐसी पुस्तक के घर में रखें। 21वीं सदी के बच्चे बहुत पावरफुल व संवेदनशील हैं। बच्चों में मोबाइल की आदत नहीं डालें। माताएं अपने काम की व्यस्तता में भी बच्चों को मोबाइल देकर नहीं उलझए। इसका गलत असर पड़ता है। बच्चों के खानपान में तला-भुना जैसा खाद्यान्न से परहेज करें। पौष्टिक व सुपाच्य भोजन की आदत डालें। माताओं बच्चों की तबीयत खराब होने पर अस्पताल/डॉक्टर को दिखाएं। किसी जादू टोना झाड़-फूंक गंडा ताबीज जैसे अंधविश्वास में नहीं आने दे। बाल विवाह, दहेज प्रथा बड़ी सामाजिक कुरीति है। इसका सरकार द्वारा भी पूरा निषेध किया गया है। शिक्षित महिलाएं इसमें संकल्प के साथ आगे बढ़ कर जागरूकता के साथ इसे हटाने के लिए कार्य करें। उन्होंने कहा कि किसी सामाजिक कुरीति को हटाने पर पहले विरोध होता है, फिर पूरा समाज उसे ठीक मानकर उसे अच्छा कहने लगता है। श्रीमती आनंदीबेन ने अपने पारिवारिक जीवन में भी उनके द्वारा बाल विवाह का विरोध करने का दृष्टांत भी सुनाया।
        राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बताया कि वह कानपुर व लखनऊ यूनिवर्सिटी में गर्भ संस्कार का आयोजन करा रही है। स्वस्थ माता, स्वस्थ बच्चे, संस्कारित शिक्षा, शिक्षित नारी पूरे घर परिवार को अच्छे से गढ़ सकती है। इसके लिए स्वयं प्रशिक्षित हो और दूसरों को जागरूक करें। सभी विभाग मिलकर बाल विकास एवं महिला कल्याण के कार्यो के लिए समन्वित रूप से कार्य करें। इससे आदर्श समाज का निर्माण होगा। देश सुख-समृद्धि से बढ़ेगा। अच्छा सोचे अच्छा करें। अच्छी रास्ता कोई एक शुरू करता है बाद में सब उस पर चलते हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रशिक्षण बहुत उपयोगी होगा। इसमें काशी के आंगनवाड़ी केंद्रों में बाल विकास व महिला कल्याण के चमत्कारी अच्छे परिणाम दिखेंगे। इस अवसर पर मंत्री स्वाति सिंह सहित विद्या भारती के पदाधिकारी व विभागीय अधिकारीगण एवं आंगनवाड़ी कार्यकत्री प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad