राज्य के 80%निजी कोचिंग संस्थानों के बंद होने से उनकी मालीहालत खस्ता,विद्यार्थियों का भविष्य अधर में - Ideal India News

Post Top Ad

राज्य के 80%निजी कोचिंग संस्थानों के बंद होने से उनकी मालीहालत खस्ता,विद्यार्थियों का भविष्य अधर में

Share This
#IIN

कमल कुमार कश्यप
 रांची झारखंड बिहार








 राज्य के 80%निजी कोचिंग संस्थानों के बंद होने से उनकी मालीहालत खस्ता,विद्यार्थियों का भविष्य अधर में

दिनांक: 29 जनवरी, 2021

झारखण्ड कोचिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष, श्री सुनील जायसवाल, श्री मदन मोहन कुमार, श्री प्रणव कुमार एवं अन्य निजी कोंचिग संस्थानों के पदाधिकारीगणों ने संयुक्त रूप से भारतीय जनता मोर्चा के केन्द्रीय अध्यक्ष, श्री धर्मेंन्द्र तिवारी से उनके कार्यालय में भेंट कर अपनी समस्याओं को उनके समक्ष रखा। उनकी समस्याओं को ध्यानपूर्वक सुनने के बाद श्री धर्मेंन्द्र तिवारी ने उन सबको आश्वस्त करते हुए कहा कि आपकी सभी जायज माँगों को मैं अपने स्तर से सरकार एवं सरकार के वरीय पदाधिकारियों तक पहँुचाते हुए उन समस्याओं का निराकरण हेतु हरसंभव प्रयास करूँगा। श्री तिवारी ने बताया कि लगभग साल भर से राज्य के सभी निजी कोचिंग संस्थानों के बंद होने से उनकी माली हालत अत्यधिक खस्ता हो गयी है, राज्य के 80 प्रतिशत से अधिक संस्थानें किराये पर चल रहे है। साथ ही इन शिक्षण संस्थानों के बंद रहने से राज्य के होनहार विद्यार्थियों, उनके अभिभावकों एवं निजी शिक्षकों पर भी प्रतिकूल आर्थिक एवं शैक्षणिक प्रभाव पड़ रहा है। राज्य के विद्यार्थियों को राज्य में ही प्रतियोगी परीक्षाओं के अनुरूप शिक्षा प्रदान करने में उनकी अहम भूमिका होती है, जिसके कारण राज्य के विद्यार्थीगण को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हेतु राज्य के बाहर पलायन नहीं करना पड़ता है। सभी निजी संस्थान देश भर में आयोजित होनेवाली विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए अपने स्तर से विद्यार्थियों को परीक्षा के अनुरूप तैयारी कराकर उन्हें योग्य बनाता है, ऐसे में उनसभी शिक्षण संस्थानों को नजरअंदाज किया जाना उचित नहीं है।
श्री तिवारी ने बताया कि प्रतियोगी विद्यार्थियों के कैरियर को विभिन्न आयाम प्रदान करने में इन संस्थानों का प्रमुख योगदान रहता है। दूसरे राज्य के बच्चों को उनके शिक्षक स्वयं ट्रेनिंग दे रहे है जबकि अपने राज्य में अभी तक ऑनलाइन ही हो पा रहा है तो ऐसे में अपने बच्चे कैसे कंपीट कर पाएंगे। देश के अधिकांश राज्यों में गैर सरकारी शिक्षण संस्थानों को पहले ही खोल दिया गया है। झारखण्ड में भी 9वीं से 12वीं कक्षा तक के दैनिक एवं आवासीय विद्यालय खुल गये है, ऐसे में निजी संस्थानों को बंद रखने का सरकारी आदेश समझ से परे है।
श्री तिवारी ने राज्य सरकार एवं राज्य के वरीय पदाधिकारियों से माँग की है कि राज्य के सभी निजी कोचिंग संस्थानों को अविलम्ब खोला जाय ताकि प्रतियोगी बच्चों को अपनी तैयारी हेतु एक उचित प्लेटफार्म मिल सके। श्री तिवारी से मिलनेवालों में श्री अजय सिंह, श्री एम.के. गुप्ता, श्री अजीत तिवारी, श्री विकास गुप्ता, श्री एस.डी. मिश्रा, श्री अजय वर्मा, श्री राकेश कुमार सहित अन्य कोचिंग संस्थानों के संचालक मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad