भक्तों ने दुर्गा माता के पांचवें स्वरूप स्कन्द माता का किया दर्शन पूजन - Ideal India News

Post Top Ad

भक्तों ने दुर्गा माता के पांचवें स्वरूप स्कन्द माता का किया दर्शन पूजन

Share This
#IIN





संवाददाता राम भवन यादव

 निज़ामाबाद आज़मगढ़
 निज़ामाबाद स्थित सेन्टरवा बाजार ग्राम खादा के मंदिर में पहुँचकर श्रद्धालुओ ने दुर्गा माता के पांचवे स्वरूप स्कन्द माता का किया दर्शन पूजन। नवरात्रि के पंचमी तिथि को स्कन्द माता का पूजन किया जाता है।यह माता दुर्गा का पांचवा स्वरूप है,भगवान शिव और पार्वती के पुत्र का नाम है स्कन्द ,जिन्हें कार्तिकेय के नाम से भी जाना जाता है।भगवान स्कन्द को माँ पार्वती ने स्वयं प्रशिक्षित किया था।उनके इसी रूप को स्कन्द माता कहते है।पौराणिक कथा के अनुसार एक तारकासुर राक्षस था जिसकी मृत्यु केवल शिव पुत्र से ही संभव थी तब माँ पार्वती ने अपने पुत्र भगवान स्कन्द को युद्ध के लिए प्रशिक्षित करने हेतु स्कन्द माता का रूप लिया और उन्होंने भगवान स्कन्द को युद्ध के लिए प्रशिक्षित किया था।स्कन्द माता से युद्ध प्रशिक्षण प्राप्त कर स्कन्द ने तारकासुर का वध किया। 
कार्तिकेय को देवताओं का सेनापति भी कहा जाता है।भगवान स्कन्द बाल रूप में माता स्कन्द की गोंद में विराजित है। स्कन्द मातृस्वरूपिणी देवी की चार भुजाएं है ये दाहिनी ऊपरी भुजा में भगवान स्कन्द को गोंद में ली है और दाहिनी तरफ की नीचे वाली भुजा में इन्होंने कमल पुष्प पकड़ा हुआ है बाई तरफ ऊपर वाली भुजा से माँ ने जगत को तारने वाली भुजा में कमल पुष्प है।माँ का वर्ण पूर्णतःशुभ्र है और कमल के पुष्प पर विराजित है।इन्हें विद्यावाहिनी दुर्गा देवी भी कहा जाता है।
 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad