:कोविड-19 व सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर मनाया गया जश्ने ईद उल मिलाद उल नबी 98 साल के इतिहास में पहली बार नहीं निकला जुलूस - Ideal India News

Post Top Ad

:कोविड-19 व सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर मनाया गया जश्ने ईद उल मिलाद उल नबी 98 साल के इतिहास में पहली बार नहीं निकला जुलूस

Share This
#IIN
जौनपुर:कोविड-19 व सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर मनाया गया जश्ने ईद उल मिलाद उल नबी
98 साल के इतिहास में पहली बार नहीं निकला जुलूस



जौनपुर
मछली शहर पड़ाव स्थित शाही ईदगाह के प्रांगण में जश्ने ईद उल मिलाद उल नबी का कार्यक्रम किया गया जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा गया, कार्यक्रम का आगाज तिलावते कलाम ए पाक से शेर मस्जिद के इमाम कारी जिया साहब ने किया।
इस मौके पर नात पढ़ते हुए कारी जिया ने कहा कि सुर्खरू होता है वही जो शाहे बे ईमान होता है
वही अजीम जौनपुरी ने भी अपनी नात से महफिल में समा बांधा
हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहो वसल्लम के जीवन पर प्रकाश डालते हुए मोहम्मद शोएब खाँ ने बताया कि 532 ईसवी में इस्लामी तारीख के 12 रबी उल अव्वल को अबू मत्तालीब के यहां अरब के मक्का शहर मे एक पोता पैदा हुआ जिसने पूरे एशिया और यूरोप में ही नहीं पूरी दुनिया में इल्म का प्रकाश फैलाया बाद में उनको खातेमूल नबी का लक़्ब मिला उन्होंने बताया कि आज कयामत तक दुनिया में कोई भी नबी या पैगंबर या अवतार नहीं आएगा उन्होंने जो धर्म की शिक्षा, इंसानियत की शिक्षा दुनिया को दी है उसी पर अमल करके दुनिया में अमन कायम किया जा सकता है आज पूरी दुनिया में पैग़ंबरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो सल्लम का योमें पैदाइश यानी जन्म दिवस मनाया जा रहा है।
कार्यक्रम का संचालन सीरत कमेटी के उपाध्यक्ष नेयाज़ ताहिर शेखू ने किया।

कोविड-19 को देखते हुए इस साल जुलूस नहीं निकला और ना शहर में कोई सजावट हुई मरकजी सीरत कमेटी व शाही ईद गाह कमेटी ने शासन प्रशासन के द्वारा दिए गए सुझाव के अनुसार कार्यक्रम को स्थगित कर  अटाला मस्जिद वह ईदगाह में कौमी यकजहती का प्रोग्राम किया।

इस मौके पर जिला अस्पताल में एक ब्लड डोनेट कैंप लगाया गया जिस की सदारत हफीज़ शाह ने की।
जुम्मा की नमाज के बाद शाही ईद  गाह में कौमी यकजहती का प्रोग्राम किया गया जिसमें शहर के तमाम मौतबर लोगों ने भाग लिया।
आखिर में कोविड-19 से निजात के लिए व दुनिया में अमन व आमान के लिए दुआएं मांगी गई।
इस मौके पर मुख्य रूप से मिर्जा दावर बैग,रियाज़ुल हक़, हाजी इमरान ,जफर मसूद ,असलम शेर खान ,इरशाद मंसूरी ,ताज मोहम्मद, आमिर कुरेशी,रशीद अहमद,सद्दाम हुसैन ,सिराज सिद्दीकी ,अरशद ए आलम शम्स आलम, सलीम खान आदि लोग मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad