ये है दुनिया का सबसे अनोखा गांव, जहां रहती हैं सिर्फ महिलाएं - Ideal India News

Post Top Ad

ये है दुनिया का सबसे अनोखा गांव, जहां रहती हैं सिर्फ महिलाएं

Share This
#IIN







पूरी दुनिया में महिलाओं (Women) को पुरुषों (Men) के बराबर हक दिलाने की बात की जाती है, लेकिन अधिकांश जगहों पर ऐसा नहीं हो पाता. इसके लिए महिलाएं लगातार लड़ाई लड़ रही है. पुरुष प्रधान समाज में महिलाएं भी आजादी से रहना चाहती है और खुली हवा में सांस लेना चाहती हैं. लेकिन पूरी दुनिया के हर देश में महिलाओं को लेकर भारत (India) जैसे ही हालात हैं. हालांकि दुनिया में कई जगह ऐसी भी हैं, जहां आज भी महिलाओं का शासन चलता है. इसका एक जीता जागता उदाहरण अफ्रीकी देश केन्या में स्थित एक गांव में देखने को मिलता है.

हम बात कर रहे हैं केन्या (Kenya) की राजधानी नैरोबी (Nairobi) के पास स्थित उमोजा गांव (Umoja Village) की. दरअसल, उमोजा गांव में केवल महिलाएं ही रहती हैं और उन्हीं का शासन चलता है. इस गांव की खासियत ये है कि यहां कोई पुरुष प्रवेश नहीं कर सकता है. उमोजा गांव में रहने वाली रोजलिना लिआरपोरा नामक एक महिला घर का काम करती है, लकड़ी जलाती है और रंग-बिरंगे मोतियों की ज्वेलरी बनाती है. बताया जाता है कि रोजलिना की उम्र उस वक्त महज तीन साल थी जब वह यहां आई. इस गांव में 48 महिलाओं का एक समूह है जो अपने बच्चों के साथ पुआल की झोपड़ियों में रहता है.

इस गांव में पुरुषों पर प्रतिबंध लगा हुआ है. अगर कोई पुरुष इस गांव में प्रवेश करता है, तो उसकी जानकारी स्थानीय पुलिस को दे दी जाती है. उसके बाद उसे दोबारा गांव में न आने की चेतावनी देकर छोड़ दिया जाता है. बता दें कि इस गांव की शुरुआत साल 1990 में हुई थी. तब 15 महिलाओं के एक समूह ने इसकी शुरुआत की थी. बताया जाता है कि संबुरु और इसिओसो के पास स्थित ट्रेडिंग सीमा के आसपास के इलाकों में ब्रिटिश जवानों ने इन महिलाओं के साथ दुष्कर्म किया था. जिसके बाद इनके समुदाय में इन्हे घृणा की दृष्टि से देखा जाने लगा, जैसे इन्हीं की गलती हो.

कई दुष्कर्म पीड़िताएं तो ऐसी भी हैं जिनका कहना है कि उनके साथ हुए अपराध के बाद उनके पति ने उन्हें परिवार के लिए अपमानजनक माना और घर से निकाल दिया. जब उन्हें इस स्थान पर जगह मिल गई तो उन्होंने यहां गांव बसा लिया और उसे उमोजा नाम दिया. ये गांव महिला एकता का प्रदर्शन करता है. धीरे-धीरे यह गांव एक शरणास्थल के रूप में बदल गया. यहां उन सभी महिलाओं का स्वागत किया जाता है, जिन्हें उनके घर से निकाल दिया जाता है.


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad