झारखंड सहायक पुलिस कर्मियों का जत्था अपनी मांगों को लेकर पलामू गढ़वा से लेकर रांची तक पदयात्रा निकालने के फिराक में - Ideal India News

Post Top Ad

झारखंड सहायक पुलिस कर्मियों का जत्था अपनी मांगों को लेकर पलामू गढ़वा से लेकर रांची तक पदयात्रा निकालने के फिराक में

Share This
#IIN

कमल कुमार कश्यप
 रांची झारखंड

झारखंड सहायक पुलिस कर्मियों का जत्था अपनी मांगों को लेकर पलामू गढ़वा से लेकर रांची तक पदयात्रा निकालने के फिराक में



सहायक पुलिसकर्मियों का एक प्रतिनिधमंडल भारतीय जनता मोर्चा के केन्द्रीय अध्यक्ष श्री धर्मेन्द्र तिवारी से मिला तथा अपनी मांगों से संबंधित एक ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल ने मांगपत्र के माध्यम से अपनी समस्याओं से अवगत कराया और उन्हें दूर करवाने के लिए सहयोग मांगा। प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि अपनी मांगो को लेकर वर्तमान में वे सभी सामुहिक अवकाश तथा अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। उन्होंने ज्ञापन में बताया कि विज्ञापन सं॰ 01/2017, गृह, करा एवं आपदा प्रबंधन विभाग, झारखंड रांची के अधिसूचना के अनुसार उनकी नियुक्ति राज्य के 12 अति नक्सल प्रभावित जलों में अनुबंध के आधार पर कुल 2500 सहयक पुलिसकर्मियों की नियुक्ति शुरूआत में 3 वर्ष  के लिए की गयी थी। सहायक पुलिस का मुख्य कार्य अपने गृह थाना क्षेत्र में नक्सली गतिविधियों के बारे में जानकारी प्राप्त करना तय किया गया था। इसके लिए 6 माह का प्रशिक्षण भी विभाग की ओर से उन्हें दी गयी थी। परंतु वर्तमान में सहायक पुलिसकर्मियों का सभी थानों में शंतरी का कार्य, वायरलेस आॅपरेटर, मुंसी, गश्ति, दंगा, छापेमारी, चेक पोस्ट, ट्राफिक सहित सामान्य आरक्षी की तरह कार्यों में योगदान लिया जा रहा है। उन्हें मानदेय के नाम पर सिर्फ 10 हजार प्रतिमाह दिया जाता है। इसके अलावा किसी भी प्रकार का भत्ता व सुविधा नहीं दिया जाता है। उन्होंने अपनी पीडा बताते हुए कहा कि इतने कम मानदेय में उनका तथा परिवार का भरण-पोषण कर पाना संभव नहीं है। सामान्य आरक्षी को अवकाश की सुविधा मिलती है परंतु सहायक पुलिसकर्मियों को इस तरह की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है, यहाँ तक महिला सहायक पुलिसकर्मियों को मातृत्व अवकाश भी नहीं मिलता है।

सहायक पुलिसकर्मियों के प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि पूर्व की सरकार में उन्हें आश्वासन मिला था कि 3 वर्षों तक उनका कार्य संतोषजनक रहने पर उनकी नियुक्ति नियमावली में संशोधन कर सहायक पुलिसकर्मियों को सीधे झारखंड पुलिस संवर्ग के आरक्षी के पद पर नियुक्त किया जाएगा। उन्होंने बताया कि उनका अनुबंध 3 वर्ष के पश्चात दिनांक 30.08.2020 को समाप्त होने के पश्चात सरकार की ओर से कोई दिशा निर्देश प्राप्त नहीं हुआ है। इसकी सूचना उन्होंने पत्राचार व अन्य माध्यम से सरकार को दी परंतु इसका जवाब नहीं मिला। पूर्व की सरकार ने भी इनकी नियुक्ति को फंसा कर रख दिया मूलवासी और आदिवासी कि केवल बात करते हैं ।जब सरकार द्वारा उनकी अनदेखी की जाने लगी तो वे वरीय पदाधिकारियों को सूचित कर सामुहिक अवकाश एवं अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहने का निर्णय लिया। यदि उनकी मांगों पर विचार नहीं किया जाता है तो वे अपनी बात सरकार तक पहुँचाने के लिए ग़ढ़वा जिले से रांची तक का पदयात्रा करेंगे। उनके ज्ञापन पर भाजमो के केन्द्रीय अध्यक्ष श्री धमेन्द्र तिवारी ने उनकी समस्या व पीड़ा को सरकार तक पहुँचाने में हर संभव सहायोग करने तथा उनकी मांगों को पूरा करवाने का प्रयास करने का आश्वासन दिया। इनकी मांगे न्यूनतम वेतनमान 10,000 से बढ़ाकर 18000 की जाए 6 महीने में वेतन वृद्धि के साथ। सेवा को 60 वर्ष तक स्थाई की जाए। झारखंड पुलिस के सभी नियमावली एवं मूलभूत सुविधाएं दी जाएं।

अतः झारखंड सरकार से भारतीय जनता मोर्चा आग्रह करता है कि झारखंड सहायक पुलिस कर्मियों की कर्तव्यनिष्ठा, बढ़ती उम्र और परिवारिक जिम्मेदारियों को देखते हुए मानवता के नाम पर ,सभी हमारे राज्य के निवासी हैं। वह महिला हो या पुरुष इनकी माँगों को स्वीकृत करने की कृपा की जाए। ताकि, यह लोग अपना आंदोलन समाप्त कर अपने गृह जिला अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए राज्य की सेवा में लगे।
 दूसरी और रांची नगर निगम के नगर आयुक्त से भी आग्रह है कि  मोराबादी मैदान में पीने की पानी, शौचालय और स्नान के पानी का जब तक आरक्षी हैं वहां निशुल्क व्यवस्था की जाए। सभी हमारे प्रदेश के भाई बहन हैं  युवा है बिना स्नान के  खुले आसमान में प डे है महिलाओं को छोटे-छोटे बच्चों के साथ परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है

 धर्मेंद्र तिवारी 
केंद्रीय अध्यक्ष
भारतीय जनता मोर्चा
9431115714

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad