सरायख्वाजा थाना पुलिस हत्या में शामिल अभियुक्तों को जेल भेजने के बाद भी अवैध ढंग से धन उगाही में लिप्त - Ideal India News

Post Top Ad

सरायख्वाजा थाना पुलिस हत्या में शामिल अभियुक्तों को जेल भेजने के बाद भी अवैध ढंग से धन उगाही में लिप्त

Share This
#IIN



Bajarangbali Shah 
जौनपुर 
जनपद के तेज तर्रार पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार के नाक के नीचे सरायख्वाजा थाना पुलिस हत्या का हवाला देकर अवैध ढंग से धन उगाही में लिप्त।
जौनपुर - सरायख्वाजा थाना अंतर्गत हैदरपुर निवासी रविन्द्र कुमार मौर्य उर्फ पप्पू सोने चाँदी का कारीगर की हत्या दिनांक 18/08/2020 को भईया लाल पुत्र सियाराम निवासी रामपुर डेरवा, सूरज कश्यप पुत्र स्व.शंकर निवासी रामपुर डेरवा,सुजीत कुमार पुत्र सियाराम निवासी रामपुर डेरवा,संध्या उर्फ संजना उर्फ लीलावती पत्नी देवेंद्र कुमार मौर्य उर्फ बच्चा निवासी मैनीपुर इन सभी लोगों ने रविन्द्र मौर्य उर्फ पप्पू की हत्या कर शव को कुएं में फेक दिया था।

थाना पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर पप्पू मौर्य के शव को कुएं से बरामद कर हत्या में शामिल उपरोक्त लोगों को दिनांक 20/08/2020 को गिरफ्तार कर जेल भेजा था, और पप्पू मौर्य की हत्या से सम्बन्धित एक राड भईया लाल के निशानदेही पर, 19 पीस बच्चों का कड़ा, 35 जोड़ी बिछिया, 7 जोड़ी पायल, 6 जोड़ी बच्चों की पायल, 14 चैन, 41 जोड़ी बिछिया व एक हाथ का चैन तथा कान के टप्स की पेच, नाक की कील की पेच, बिछिया जोड़ने वाली हुक बरामद हुआ।

संध्या उर्फ संजना उर्फ लीलावती के निशानदेही पर एक साइकिल बरामद हुआ, और सूरज कश्यप के निशानदेही पर गौतम बुद्ध इन्टर कालेज से बरामद सभी समानों को सरायख्वाजा पुलिस द्वारा कब्जे में लिया गया, जिसके बाद सभी अभियुक्तों को जेल भेजा गया।

लेकिन सरायख्वाजा थाना पुलिस पप्पू मौर्य की हत्या का खुलासा कर सभी आरोपितों को जेल भेजने के बाद भी किसी बेगुनाह गरीब को बलि का बकरा बनाने की मंशा से रामपुर डेरवा के दिलीप विश्वकर्मा पुत्र स्व0 मुखलाल विश्वकर्मा को पप्पू मौर्य की हत्या का हवाला देते हुए थाना पुलिस उसकी मोटरसाइकिल होण्डा साईन UP 62-2193 दिनांक 19/08/2020 को उसके घर से थाना पर ले आई और यह कहा कि यदि पप्पू मौर्य की हत्या में तुम्हारी मोटरसाइकिल को प्रयोग में नहीं लिया गया होगा तो तुमको तुम्हारी मोटरसाइकिल मिल जायेगी।

सरायख्वाजा थाना क्षेत्र अंतर्गत मैनीपुर गांव में दिनांक 18/08/2020 को पप्पू मौर्य की हत्या किया गया था और 19/08/2020 को थाना पुलिस हत्या का हवाला देकर दिलीप विश्वकर्मा निवासी रामपुर डेरवा की मोटरसाइकिल थाने लेकर गयी थी, दिनांक 20/08/2020 को सरायख्वाजा पुलिस ने हत्या का खुलासा कर हत्या में इस्तेमाल सामन व हत्या में शामिल अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

किन्तु सरायख्वाजा थाना पुलिस हत्या का खुलासा करने के बाद हत्या में शामिल लोगों व हत्या में प्रयोग किए गए सामान की बरामदगी कर सभी आरोपितों को जेल भेजने के बाद भी आज 24 दिन बितने के बाद भी सरायख्वाजा थाना पुलिस दिलीप विश्वकर्मा की मोटरसाइकिल बिना मतलब के थाना में रोक रखी है,और रोकेगी भी क्यों नहीं आखिर थाना पुलिस को दस हजार रुपये का बलि का बकरा जो मिला हैं।

बेचारा दिलीप विश्वकर्मा को अपने पिता की तेरही में भईया लाल को तेरही का भोज खिलाना इतना भारी पड़ गया कि जो थाना पुलिस को 10,000 देकर चुकानी पड़ेगी।

दिलीप विश्वकर्मा एक गरीब व्यक्ति हैं जो घूम घूम कर फर्नीचर का कार्य करके अपने परिवार का जीविकोपार्जन करता है किन्तु अब सरायख्वाजा थाना पुलिस के कारण बेचारा दिलीप अपने काम पर न जाने के कारण अपने परिवार का जीविकोपार्जन करने में असमर्थ हो गया हैं।

दिलीप किसी तरस से मजदूरी करके एक एक पाई जुटा कर अपने कार्य को गति देने के लिए एक मोटरसाइकिल खरीदा था उसे क्या पता की पिता के निधन पर भईया लाल को बुलाना इतना भारी पड़ेगा की उसे और उसके परिवार को उसके पड़ोसी भईया लाल और थाना पुलिस के कारण भूखों सोना पड़ेगा।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad