*विश्व हृदय दिवस के अवसर पर आरोग्य भारती द्वारा संगोष्ठी का आयोजन* - Ideal India News

Post Top Ad

*विश्व हृदय दिवस के अवसर पर आरोग्य भारती द्वारा संगोष्ठी का आयोजन*

Share This
#IIN






Dr.U.S. Bhagat


विश्व हृदय दिवस का उद्देश्य लोगों को तनाव से दूर व हृदय की बीमारियों के प्रति सचेत रहने की भावना को जागृत करना है। इसी उद्देश्य के लिए आरोग्य भारती द्वारा आज 29 सितंबर को नगर के बी एल जे इंटर कॉलेज में "कोरोना काल मे हृदय की सुरक्षा" विषय पर स्वास्थ्य जागरूकता संगोष्ठी का आयोजन किया गया।भगवान धन्वंतरि की वंदना के साथ कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए आरोग्य भारती के विंध्याचल विभाग प्रमुख डॉ गणेश अवस्थी ने कहा कि हृदय की बीमारी आज भारत में बहुत तेजी से बढ़ रही है। इस बीमारी के मुख्यत: सात कारणों में बढ़ा हुआ वजन, बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल, बढ़ा हुआ ब्लडप्रेशर, बढ़ा हुआ शुगर, बढ़ा हुआ तनाव एवं श्रम ही जीवन तथा वंशानुगत दोष जिम्मेदार होता है।
आरोग्य भारती काशी प्रांत के सह सचिव डॉ अवनीश पांडेय ने कहा कि हृदय रोगों के मुख्य लक्षणों में चलते समय सांस फूलना, पैरों में सूजन, धड़कन का बढ़ना, चक्कर आना, पसीना अधिक आना, बाएं हाथ और जबड़े में दर्द होना प्रमुख लक्षण है। हृदय में रक्त का संचार करने वाली धमनियों में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने से ह्रदय रोगों की संभावना बढ़ती है, इसके साथ ही तंबाकू, शराब, सिगरेट, पान मसालों का सेवन, अधिक फैट एवं तेल युक्त भोजन, व्यायाम न करना एवं तनाव भी हृदय रोग का मुख्य कारण है। हमारे मन के अनुसार कोई कार्य न होना हमे तनावग्रस्त करता है।यह तनाव हृदय रोगों के साथ साथ अनेक बीमारियों को उत्पन्न करता है। 80% हृदय रोगों से सही भोजन एवं जीवनशैली में सुधार के साथ बचा जा सकता है।
डॉ विवेक सिंह ने कोरोना काल मे तनाव से बचने के लिए सत्ववाजय चिकित्सा के साथ अनुलोम विलोम, प्राणायाम के महत्व पर चर्चा की और कहा कि हमे अपने परिवार के साथ अधिक समय बिताना चाहिए। उन्होंने बताया कि स्वस्थ रहने के लिए सुबह 35 मिनट तक अवश्य टहलें। डॉ टी एन द्विवेदी ने ने कहा कि दांतों की सफाई न रखने से भी बैक्टीरिया का संक्रमण हो सकता है जो एंडोकारडाईटिस में बदल सकता है।कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्यालय के प्रधानाचार्य वंशीधर तिवारी ने किया।कार्यक्रम का संचालन आरोग्य भारती मीरजापुर उपाध्यक्ष डॉ संदीप श्रीवास्तव तथा संयोजन विनय कुमार सिंह द्वारा किया गया।इस अवसर पर विद्यालय में हृदय रोगों में लाभकारी अर्जुन, गिलोय एवं आंवले के पौधे लगाए गए तथा 65 लोगों को इम्युनिटी वर्धक काढ़े का वितरण किया गया।इस अवसर पर डॉ गणेश अवस्थी, डॉ अवनीश पाण्डेय, डॉ संदीप श्रीवास्तव, डॉ टी एन द्विवेदी, कृष्णमोहन गोस्वामी, डॉ अरविंद अवस्थी, विनय सिंह तथा विद्यालय के शिक्षक एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad