कोमल पंवार डिप्टी कलेक्टर बनीं - Ideal India News

Post Top Ad

कोमल पंवार डिप्टी कलेक्टर बनीं

Share This
#IIN



Manoj Bhatnagar 
मोदीनगर तहसील में तैनात नायब तहसीलदार कोमल पंवार अब डिप्टी कलेक्टर बन गई हैं। उन्होंने यूपीपीसीएस 2018 की परीक्षा में 74 वीं रैंक हासिल की है। हालांकि, पीसीएस की परीक्षा उन्होंने पहले भी पास की थी। लेकिन, पदोन्नति के लिए दोबारा से परीक्षा दी। लॉकडाउन में काम की व्यस्तता के बीच भी उन्होंने पढ़ाई के लिए समय निकाला और यह मुकाम हासिल किया। मोदीनगर के गणमान्य लोगों समेत प्रशासनिक अधिकारियों ने उन्हें शुभकामनाएं दी। मूलरूप से बागपत के सुन्हैडा गांव निवासी कोमल पंवार के पिता नरेंद्र सिंह पंवार दिल्ली पुलिस में दारोगा हैं। माता सुमन पंवार गृहणी हैं। कोमल पंवार की शिक्षा दिल्ली में ही हुई। बचपन से ही उन्हें किताबें पढ़ने का बहुत शौक था। पिता नरेंद्र सिंह अपनी बेटी को बड़े अफसर के रूप में ही देखना चाहते थे। इसे पूरा करने के लिए कोमल पंवार मेहनत में जुटी थी। 2011 से उन्होंने दिल्ली के प्राइमरी विद्यालयों में छात्रों को पढ़ाना शुरू किया गया। इसके साथ ही उन्होंने अपनी बीएड की पूरी की। 2016 यूपीपीसीएस की उन्होंने परीक्षा दी। पहले बार में ही उन्होंने परीक्षा पास की। इसमें उन्होंने 85 रैंक हासिल की। पहली पोस्टिंग मोदीनगर तहसील में नायब तहसीलदार के पद पर हुई। लेकिन, अभी और बड़ा अफसर बनने की चाह मन में थी। उन्होंने यूपीपीसीएस 2018 की परीक्षा दी। प्राथमिक व मुख्य परीक्षा में अच्छे अंक हासिल किए। जिसके बाद उन्हें 13 अगस्त 2020 को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया। साक्षात्कार के दौरान अधिकारी उनके जवाबों से काफी प्रभावित हुए। जिसके बाद हाल ही में फाइनल मेरिट लगी। जिसमें कोमल पंवार ने प्रदेश में 74वीं रैंक हासिल की। अब वह डिप्टी कलेक्टर बन गई हैं। कोमल पंवार ने बताया कि उनकी सफलता में सबसे बड़ा योगदान उनके पिता का है। पिता ने उनके आत्मविश्वास को कभी टूटने नहीं दिया। इसके अलावा माता से मिली प्रेरणा से सफलता का मार्ग हमेशा खुला रहा है। पढ़ाई में परेशानी आने पर उनके शिक्षक व साथियों ने सहयोग किया। कोमल पंवार ने बताया कि अभी उनका संकल्प पूरा नहीं हुआ है। अभी यूपीएससी की परीक्षा पास कर उन्हें आइएएस बनना है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad