52 सालों के बाद चंद्रमा पर उतारेगा एक महिला और एक पुरुष अंतरिक्ष यात्री - Ideal India News

Post Top Ad

52 सालों के बाद चंद्रमा पर उतारेगा एक महिला और एक पुरुष अंतरिक्ष यात्री

Share This
#IIN










नई दिल्ली

 नासा ने साल 1972 के बाद पहली बार चांद पर इंसान को भेजने की योजना बनाई है। नासा ने ऐलान किया है कि वह 2024 में चंद्रमा पर पहली महिला और एक पुरुष एस्ट्रॉनॉट को उतारने की योजना बना रहा है। नासा के प्रशासक (Administrator) के. जिम ब्रिडेनस्टीन ने कहा कि हम चांद पर वैज्ञानिक खोज, आर्थिक लाभ और नई पीढ़ी के खोजकर्ताओं को प्रेरणा देने के लिए चांद पर दोबारा जा रहे हैं।

समाचार एजेंसी के मुताबिक इस परियोजना पर करीब 28 अरब डॉलर खर्च होगा। इस खर्च के लिए अमेरिकी कांग्रेस से बजट को मंजूरी जरूरी है। चांद पर मिशन को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी इच्छा जाहिर कर चुके हैं। ब्रिडेनस्टीन ने कहा कि नासा 2024 में चांद पर लैंडिंग को लेकर सही दिशा में है, अगर क्रिसमस के पहले अमेरिकी कांग्रेस 3.2 अरब डॉलर की मंजूरी देती है तो हम चांद पर अपने अभियान को अंजाम दे पाएंगे।

इस मिशन का नाम अर्टेमिस है और यह कई चरणों में होगा। पहला चरण मानव रहित ओरियन स्पेसक्राफ्ट से नवंबर 2021 में शुरू होगा। मिशन के दूसरे और तीसरे चरण में एस्ट्रॉनॉट चांद के आसपास चक्कर करेंगे और चांद की सतह पर उतरेंगे। अपोलो 11 मिशन की तरह अर्टेमिस मिशन भी एक सप्ताह तक चलेगा और उस दौरान एस्ट्रॉनॉट एक हफ्ते तक चांद की सतह पर काम करेंगे। 1969 में अपोलो 11 मिशन के तहत पहली बार एस्ट्रॉनॉट चांद पर उतरे थे। अर्टेमिस मिशन अपोलो 11 मिशन से लंबा होगा और इसमें पांच के करीब एक्ट्राव्हीकुलर एक्टिविटिस होंगी। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad