गाजीपुर में 2526 बच्चों ने कांवेंट स्कूलों को छोड़ा - Ideal India News

Post Top Ad

गाजीपुर में 2526 बच्चों ने कांवेंट स्कूलों को छोड़ा

Share This
#IIN




Dr. S.K. Gupta

गाजीपुर

 कोरोना काल में बंद चल रहे विद्यालयों के चलते बच्चों व अभिभावकों का मन कांवेन्ट स्कूलों से डोलने लगा है। आनलाइन क्लास व परीक्षा के नाम पर पूरी फीस की वसूली से तंग बच्चे अब कांवेन्ट स्कूलों को बाय-बाय कहने लगे हैं। भले ही स्कूल अभी तक नहीं खुले हैं, बावजूद अब तक जिले में 2526 बच्चों ने कांवेन्ट स्कूल से अपना नाम कटा लिया है और परिषदीय विद्यालय में प्रवेश ले लिया है। परिषदीय विद्यालयों में बदलता शैक्षणिक वातावरण बच्चों व उनके अभिभावकों को आर्किषत कर रहा है। उधर, बच्चों के स्कूल छोडऩे से कांवेन्ट स्कूलों की चिंता बढ़ गई है।

जिले में 2755 परिषदीय विद्यालय संचलित हो रहे हैं, जहां ज्यादातर आॢथक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चे पढ़ते हैं। अगर कोई परिवार जरा सा भी आॢथक रूप से संपन्न है तो वह अपने बच्चों को निजी स्कूलों में ही भेजता है। निजी स्कूल अपने यहां आधुनिक तकनीक व शिक्षा व्यवस्था लागू करने, चमचमाती बिङ्क्षल्डग, स्कूल वाहन व टिप-टाप व्यवस्था  दिखाकर बच्चों व अभिभावकों को आर्किषत करने में सफल हो जाते हैं, लेकिन कोरोना काल के दौरान उनकी पोल खुलने लगी है। उनकी आनलाइन शिक्षा व्यवस्था देखकर अभिभावक यह महसूस करने लगे हैं कि निजी स्कूलों में केवल टिप-टाप है, पढ़ाई उस स्तर की नहीं जैसा दिखाया जाता है। ऊपर से आनलाइन पढ़ाई के नाम पर पूरी फीस भी भरने का दबाव निजी स्कूल वालों बना रहे हैं। आए दिन फोन कर अभिभावकों पर फीस जमा करने का दबाव बना रहे हैं। ऐसे में अभिभावकों को लग रहा है कि जब आनलाइन ही पढ़ाई करानी हो तो परिषदीय विद्यालयों में क्या बुराई है। वहां प्रशिक्षित शिक्षक हैं और निजी स्कूलों से बेहतर तरीके से आनलाइन पढ़ा रहे हैं। फीस भी नहीं लगनी है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad