बुजुर्ग दंपती समेत तीन की घर में लहूलुहान म‍िला शव - Ideal India News

Post Top Ad

बुजुर्ग दंपती समेत तीन की घर में लहूलुहान म‍िला शव

Share This
#IIN

Zainab Aqil Khan

लखनऊ
  निगोहां में गुरुवार को ट्रिपल मर्डर की घटना से सनसनी फैल गई। नगराम मोड़ के पास हाइवे किनारे स्थित मकान में बुजुर्ग दंपति की सिर कूचकर हत्या कर दी गई। वहीं थोड़ी दूरी पर एक चौकीदार का भी शव पड़ा मिला, जिसके सिर पर चोट के निशान थे। आइजी लक्ष्मी सिंह के मुताबिक दंपति की हत्या पत्थर से सिर कूचकर की गई है। शव के पास खून से सना पत्थर भी मिला है। दंपति और निजी चौकीदार की मौत का आपस में कोई कनेक्शन नहीं है। कई बिंदुओं पर मामले की पड़ताल की जा रही है। जल्द ही वारदात का राजफाश कर दिया जाएगा।
निगोहां के राती गांव निवासी रामसनेही साहू पत्नी राम जानकी के साथ नगराम मोड़ के पास हाईवे किनारे मकान बनवा कर चार साल से रहते थे। बुधवार को दंपति घर में मौजूद थे। इसी बीच हमलावर घर में दाखिल हुए और दोनों की पत्थर से सिर कूचकर हत्या कर दी। गुरुवार दोपहर में रामसनेही की बेटी साधना के बेटे विनय और अजय कुछ सामान लेकर नाना नानी के घर गए थे। दोनों जैसे ही घर में दाखिल हुए सामने फर्श पर राम जानकी और चारपाई पर रामसनेही का शव लहूलुहान पड़ा था। यह देख अजय और विजय की चीख निकल गई और दोनों भागकर राती गांव पहुंचे। इसके बाद परिवारजन को घटना की जानकारी हुई। रामसनेही के तीन बेटे मूलचंद, राम नारायण और लक्ष्मी नारायण हैं।

पुलिस अभी बुजुर्ग दंपती की हत्या के बारे में छानबीन कर ही रही थी कि वहां मौजूद लोगों ने झाड़ियों में एक शव देख शोर मचाया। एक और शव मिलने की सूचना से पुलिस अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए। छानबीन में पता चला कि वह शव एक शोरूम के चौकीदार सत्रोहन का है, जो दो दिन से लापता था। उदयपुर निवासी सत्रोहन के सिर पर चोट के गंभीर निशान मिले हैं। आशंका जताई जा रही है कि सत्रोहन की सिर पर वार कर हत्या की गई थी और शव को छिपाने के लिए झाड़ियों में फेंक दिया गया था। अर्धनग्न थे दोनों शव, हंगामा परिवारजन ने बताया कि राम जानकी के शरीर पर कपड़े नहीं थे।
हालांकि आइजी का कहना है कि बुजुर्ग दंपति अर्धनग्न थे और ऐसा प्रतीत हो रहा था कि दोनों सोने की तैयारी कर रहे थे। पुलिस बुधवार शाम से देर रात के बीच की घटना बता रही है। घर में रखा सारा सामान व्यवस्थित था ऐसे में लूट व डकैती की घटना से पुलिस ने इंकार किया है। माता पिता की हत्या की जानकारी पाकर साधना अन्य रिश्तेदारों के साथ वहां पहुंची और शव दिखाए जाने की मांग की। इसपर पुलिस ने इंकार कर दिया। इससे परिवारजन नाराज हो गए और हंगामा करने लगे। बाद में जानकारी मिलने पर आइजी ने महिला कांस्टेबल के साथ साधना को घर के भीतर भेज कर शव दिखवाया। तब जाकर लोग शांत हुए। पड़ोसी रामकुमार ने बताया कि राम जानकी हर रोज सुबह उनके बगीचे में फूल तोड़ने आती थी लेकिन बुधवार और गुरुवार को वह नहीं आई थी।
पुलिस वारदात के पीछे पारिवारिक पृष्ठभूमि की छानबीन कर रही है। रामसनेही ने राम जानकी के नाम से मकान बनवाया था। वही रामसनेही के नाम से दर्ज जमीन बटाई पर है। रामसनेही का उनके बेटों से अनबन रहता था। कई बार रामसनेही ने निगोहा थाने में बेटों के खिलाफ शिकायत भी की थी। राम नारायण ने बताया कि हर माह वह सरकारी गल्ले का राशन और कुछ रुपये माता-पिता को पहुंचा देता था। उधर, उत्तर प्रदेश निर्माण एवं श्रम विकास सहकारी संघ के राज्यमंत्री वीरेंद्र तिवारी ने अधिकारियों से वारदात के राजफाश की मांग की है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad