सिपाही और बड़े बाबू में एसपी कार्यालय में मारपीट - Ideal India News

Post Top Ad

सिपाही और बड़े बाबू में एसपी कार्यालय में मारपीट

Share This
#IIN


 Rajan Kumar Singh and Pramod Kumar Tiwari

पुलिस लाइन में तैनात सिपाही शिवबरन सिंह शुक्रवार को दोपहर करीब एक बजे पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य के सामने पेश हुआ और शिकायत की कि उसका द्वितीय वेतनमान नहीं लगाया जा रहा है। इस पर एसपी ने प्रधान लिपिक (बड़े बाबू) प्रदीप श्रीवास्तव से आख्या मांग ली। वह पत्र लेकर सिपाही बड़े बाबू के पास पहुंचा और कहने लगा कि उसका द्वितीय वेतनमान लगाया जाए। इस पर बड़े बाबू का जवाब था कि वर्ष 2017 में मिले दंड की वजह से वर्ष 2022 में द्वितीय वेतनमान लगेगा।
इसी बात पर सिपाही बड़ेबाबू से कहासुनी व गाली गलौच करने लगा। बड़े बाबू का कहना है कि गाली गलौच करते हुए शिवबरन उन पर हमलावर हुआ। बचाव के लिए उन्होंने हाथ लगाया तो उनकी घड़ी टूट गई। इतने में कार्यालय में रहे टीएसआइ संतोष यादव सहित अन्य लिपिक बीच बचाव करने लगे तो सिपाही ने उनसे भी मारपीट की। इसके बाद सभी कर्मचारियों ने शिवबरन को पकड़कर जमकर पीटा और धक्का देकर उसे कार्यालय से बाहर निकाल दिया। घटना के समय एएसपी पूर्वी सुरेंद्र द्विवेदी कार्यालय में मौजूद थे, हालांकि उन्होंने बाहर निकलना मुनासिब नहीं समझा। वहीं एसपी इस घटना से कुछ ही समय पहले क्षेत्र में भ्रमण पर निकल गए थे। इस मामले में सिपाही शिवबरन ने आरोप लगाया है कि द्वितीय वेतनमान लगाने के लिए उनसे बड़े बाबू ने पैसा भी लिया है। इसके बाद भी काम नहीं कर रहे हैं। बड़े बाबू प्रदीप श्रीवास्तव का कहना है कि वर्ष 2017 में फायरमैन कमलेश कुमार से की गई मारपीट में शिवबरन यादव को दंड मिला है। ऐसे में पांच साल बाद भी द्वितीय वेतनमान लग सकता है, लेकिन वह तुंरत वेतनमान लगाने की जिद आए दिन करता है। पैसा देने का आरोप बेबुनियाद है। इस बारे में एएसपी पूर्वी सुरेंद्र द्विवेदी का कहना है कि बड़े बाबू व सिपाही से मारपीट के मामले की जानकारी है। पूरे प्रकरण की जांच कराई जा रही है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad