छोटे-छोटे कस्बों, गांवों में फैल रहा है कोरोना का कहर, पर लोग बरत रहे लापरवाही - Ideal India News

Post Top Ad

छोटे-छोटे कस्बों, गांवों में फैल रहा है कोरोना का कहर, पर लोग बरत रहे लापरवाही

Share This
#IIN

*छोटे-छोटे कस्बों, गांवों में फैल रहा है कोरोना का कहर, पर लोग बरत रहे लापरवाही*

सीतापुर-      शरद कपूर/आलोक अवस्थी


सोमवार को भी जनपद में कोरोना पॉजटिव मरीजों के मिलने का सिलसिला अनवरत जारी रहा, बिसबाँ में इलाहाबाद बैंक की शाखा प्रबंधक सहित आधा दर्जन लोगो की रिपोर्ट कोरोना पॉजटिव आई है जिसके चलते हाजीपुर की बैंक की इस शाखा को सील कर सैनिटाइज किया जा रहा है, जिले में अब तक सात बैंक कर्मी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं | सबसे अधिक चिंतित करने वाली बात यह है कि यह महामारी छोटे-छोटे कस्बों में ग्रामीण क्षेत्रों में भी फैल रही है | लेकिन देखने में आ रहा है कि लोगों को जैसे कोरोना वायरस का कोई भय ही नहीं है | आमजनमास बाजारों में बेपरवाह सा घूम रहा है |
कोरोना महामारी आज पूरे विश्व में फैल कर तबाही मचाये हुए है । वंही इस महामारी से अपना देश भी अछूता नही है जिस प्रकार से व्यापक स्तर पर बड़े शहरों से निकलकर छोटे छोटे कस्बो को प्रभावित करता हुआ अब ग्रामीण क्षेत्रो में अपना असर दिखाना शुरू किया है निश्चित ही चिन्ता का विषय है । जँहा तक इस वायरस की ऐंटी वैक्सीन की खोज में आज पूरा विश्व लगा हुआ है वहीं दूसरी ओर इस वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है । जिस तरह नगर व आस पास के क्षेत्रों में कोरोना पॉजिटिव मरीजो का निकलना व लागातार संख्या में वृद्धि शासन प्रशासन के लिए गंभीर चुनौती साबित हो रहा है । वंही नगर व आस पास के क्षेत्रों मे निवास करने वाले वाशिन्दों में भय का माहौल देखने को मिल रहा है पॉजिटिव पाए गए मरीजो के संपर्क में रहने वाले लोगो की स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा जांच सैम्पल लिए जा रहे हैं तब तक उन सभी की धड़कने तेज रहती है जब तक कोई निष्कर्ष निकल न आये । वंही नगर के प्रबुद्ध वर्ग का मानना है कि शासन प्राशासन द्वारा इस महामारी से बचने के जो उपाय बताए जा रहे है उन्हें कुछ नजरअंदाज करते हुए इसका माखोल बनाये हुए है जिसका परिणाम निश्चित तौर पर मरीजो की संख्या बढ़ाने का कार्य करेगा । अनलॉक चरण दो में शहर में खुलती दुकानों पर भीड़ व सोशल डिस्टेंसिग का पालन न करना शाम के समय मिल गेट के सामने मेले जैसा माहौल इस संक्रमण को और अधिक फैलाने में सहायक की भूमिका अदा कर रहा है । इन सभी बातों को गौर करते हुए तथा लगातार बढ़ते मरीजो को देखते हुए आम नागरिकों की माने तो कस्बे में लाकडाउन की अवधि को बढ़ाते हुए क्षेत्र में जांचों का दायरा बढाना चाहिए जिससे संक्रमित व्यक्ति की पहचान होने पर प्रशासन द्वारा आवश्यक कदम उठाते हुए समय रहते मरीज को चिकित्सीय लाभ मिल सके । वहीं नगर में इस संक्रामक महामारी के बढ़ते कदमो को रोकने के लिए स्थानीय प्रशासन आखिर क्या निर्णय लेगा यह आने वाला समय ही बताएगा ।

      *शरद कपूर/आलोक अवस्थी*

                *सीतापुर*

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad