पोस्टर, बैनर व बैठकों के माध्यम से चल रही मुहिम अभियान - Ideal India News

Post Top Ad

पोस्टर, बैनर व बैठकों के माध्यम से चल रही मुहिम अभियान

Share This
#IIN




अजय कुमार मिश्रा
संचारी रोग नियंत्रण माह

• सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए रैली निकालकर बताया गया साफ-सफाई का महत्व
• लोगों से आस-पास जलजमाव न होने देने की अपील, कीटनाशकों का छिड़काव
आजमगढ़, 16 जुलाई 2020
संचारी रोगों पर नियंत्रण के लिए कहीं पोस्टर व बैनर के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है तो कहीं बैठकों के माध्यम से संचारी रोगों के लक्षण और उनसे बचाव के तरीके बताए जा रहे हैं।
इसी क्रम में मोहम्मदपुर ब्लॉक के छाऊं विसयां दयालपुर उपकेंद्र के स्वास्थ्यकर्मियों ने सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए रैली निकाली और लोंगो को बताया कि संचारी रोगों के पैदा होने का क्या कारण हैं, इससे कैसे बचाव किया जा सकता है आदि। आशा संगिनी सीमा राय, एएनएम वीनू राय के साथ अन्य आशा कार्यकर्ताओं ने गांव के लोगों को गांव में साफ-सफाई का महत्व बताया। कुओं, तालाबों और नालियों में कीटनाशक दवा का छिड़काव कराया और बताया कि इससे मच्छरों के लार्वा खत्म होंगे और संचारी रोगों के फैलने पर रोक लग पाएगी। लोगों से अपील की कि किसी भी स्थिति में अपने आस-पास पानी न इकट्ठा होने दें। कूलर का पानी बदलते रहें, पूरे बाजू के कपड़े पहनें और मच्छरदानी का प्रयोग करें क्योंकि मच्छर काटने से मलेरिया, डेंगू, मस्तिष्क ज्वर हो सकता है। ऐसी स्थिति में तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाकर जांच कराएं और डॉक्टर की सलाह के अनुसार अपना इलाज कराएं। रैली के दौरान लोगों ने सोशल डिस्टैंसिंग का खासा खयाल रखा।
 फूलपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) के ब्लाक सामुदायिक प्रक्रिया प्रबंधक (बीसीपीएम) सुशील कुमार मौर्य ने बताया कि क्षेत्र की आशा कार्यकर्ताओं ने विभिन्न स्थानों पर सोशल डिस्टैंसिंग का ध्यान रखते हुए महिलाओं के साथ बैठकें कीं और कुछ जगहों पर पोस्टर के माध्यम से जागरूक किया। बैठकों में घर की बुजुर्ग महिलाओं को संचारी रोगों के प्रति जागरूक किया। उन्हें बताया गया कि किन-किन स्थानों पर मच्छर पैदा हो सकते हैं और उन्हें कैसे नष्ट किया जाए।
 फूलपुर के प्रभारी चिकित्साधीक्षक (एमओआईसी) डॉ राम आशीष सिंह यादव ने बताया कि पोस्टर-बैनर के माध्यम से लोगों को संचारी रोगों से बचाव के लिए सतर्क किया जा रहा है। कई जगहों पर इसके बारे में जागरूक करने के लिए गोष्ठियां भी हुईं हैं। उन्होंने बताया कि संचारी रोगों के बारे में जागरूक करने के साथ ही 11 जुलाई से जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा भी चल रहा है। कोविड-19 के प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुये 30 जुलाई को इच्छुक लाभार्थियों को नसबंदी की सेवा प्रदान की जाएगी। इसके साथ ही लोगों को लगातार परिवार नियोजन के अस्थाई साधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad