कब्र खोदाई को लेकर भिड़े शिया-सुन्नी - Ideal India News

Post Top Ad

कब्र खोदाई को लेकर भिड़े शिया-सुन्नी

Share This
#IIN






Girish Chandra Yadav
कोपागंज पुराघाट मऊ
 अतरौलिया थाना क्षेत्र के जमीन दशांव गांव के समीप मंगलवार की भोर में हुए सड़क हादसे में कोपागंज के तीन युवकों की मौत हो गई। जबकि दो घायल हो गए। उधर उनके शवों का पोस्टमार्टम आजमगढ़ में किया जा रहा था, इधर तीनों युवकों के शव दफनाने के लिए खोदी जा रही कब्र को लेकर शिया व सुन्नी वर्गों के लोग आपस में उलझ गए। विवाद गहाराता देख प्रशासन भी चैतन्य हो गया। पहले पुलिस, बाद में अधिकारियों ने पहुंचकर मामले को बीच-बचाव कर सुलह-समझौते के माध्यम से हल कराया। एक लिखित अस्थायी समझौते के बाद कब्रों की खोदाई हो सकी, जिसमें मृतकों के शव दफनाए गए। प्रशासन की मौजूदगी में रमजान के बाद इस समस्या के स्थायी हल के लिए बैठक करने की सहमति बनी।
लखनऊ मदरसे के छात्र कार द्वारा घर लौट रहे थे। रास्ते में जमीन दशांव गांव के पास कार अनियंत्रित होकर एक ट्रक में पीछे से टकरा गई। तीन युवा छात्रों की मौत के बाद शोक में डूबे शिया समुदाय के लोग हिकमागाढ़ा स्थित कब्रिस्तान में गड्ढा खोद रहे थे। इसी बीच सुन्नी समुदाय के कुछ लोग वहां पहुंचे और एतराज जताते हुए गड्ढा खोदने से मना कर दिया। दोनों पक्षों में कहासुनी होने लगी। सूचना पाकर थानाध्यक्ष विनय सिंह मौके पर पहुंचे। दोनों पक्षों को समझाने लगे लेकिन कोई भी मानने को तैयार नहीं था। इसी बीच सीओ घोसी भी पहुंच गए और भीड़ को मौके से हटवाकर दोनो तरफ से मानिद लोगों को बुलाकर समझाया। इसके बाद अस्थायी समझौता हुआ। इस पर दोनो पक्षों के मौलाना इमामुलहक, सुलेमान अंसारी, मुहम्मद मुस्तकीम, शबीबुल हसन, कर्रार अली, इशरत अली, शमीम मेंहदी ने हस्ताक्षर किए। इसकी एक प्रति सीओ घोसी अभिनव कन्नौजिया को भी सौंपी गई। तय हुआ कि ईद के त्योहार बाद इसका स्थायी निदान निकाला जाए। इसके बाद सीओ घोसी के आदेश पर कब्रिस्तान में कब्र खोदाई का काम चालू हो गया। वहीं कुछ देर बाद सदर एसडीएम अतुल वत्स एवं सीआरओ भी मौके पर पहुंच गए। मौका मुआयना कर कहा कि इसका स्थायी समाधान निकलना जरूरी है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad