ईद की नमाज़ सादगी से मनाने के लिए मुफ्ती आफताब आलम नदवी की अपील -वीडियो देखें - Ideal India News

Post Top Ad

ईद की नमाज़ सादगी से मनाने के लिए मुफ्ती आफताब आलम नदवी की अपील -वीडियो देखें

Share This
#IIN

*मुसलमान भाई ईद की नमाज पूरी सादगी के साथ अपने घरों पर ही पढ़े ---- मुफ्ती आफताब आलम नदवी खैराबादी*



*सीतापुर*         *शरद कपर ,काजिम हुसैन

दारूल उलूम नदवा लखनऊ के वरिष्ठ प्रोफेसर सीतापुर जिले के खैराबाद कस्बा निवासी मौलाना, कारी, मुफ्ती आफताब आलम नदवी खैराबादी ने समस्त मुस्लिम भाइयों से अपील की है कि सभी लोग इस वर्ष ईदुल फितर की नमाज अपने अपने घरों पर पूरी सादगी से पढ़े |
           मुफ्ती आफताब आलम नदवी खैराबादी ने विशेष रूप से जिला वासियों से अपील करते हुए कहा कि इस कोरोना कॉल में शासन प्रशासन से मिले दिशा निर्देशों का पूरी सख्ती के साथ पालन करें | इसी में हम सबके के साथ ही अपने परिवार, मोहल्ले, गाँव, नगर, प्रदेश एवं देश की भलाई है | मुस्लिमो के नाम अपने संदेश का एक वीडियो जारी करते हुए मुफ्ती आफताब ने पुरजोश अपील की है कि किसी भी दशा में ईदगाह जाकर नमाज पढ़ने की कोशिश कदापि ना करें,  उन्होंने कहा कि पूरे विश्व के साथ ही अपने भारत पर भी कोरोना वायरस का संकट आया है | आज पूरा विश्व इससे जूझ रहा है,  इस संकटकाल में हमारा दायित्व बनता है कि अपने देश के साथ रहें, शासन प्रशासन के सभी निर्देशों का खुद तो पालन करें ही साथ ही अपने दूसरे साथियों को भी प्रेरित करें इस संकट काल में यह भी एक शबाब का काम है |
       अपनी अपील में मुफ्ती धर्मगुरु ने मुसलमानों से स्पष्ट कहा कि इस साल ईद पर कोई भी नए कपड़े सिलवाने या रेडीमेड खरीदने से परहेज़ करें, आप सभी मुसलमान भाई पुराने साफ सुथरे धुले हुए कपड़ो को पहन कर ही ईदुल फितर की नमाज अता कर सकते हैं | उन्होंने कहा कि इस्लाम में कहा भी गया है कि जब देश पर कोई संकटकाल आए तो समस्त मुसलमानों का दायित्व बनता है कि पूरी मुस्तैदी व ईमानदारी के साथ देश के साथ खड़े हों | अपनी अपील में मौलाना साहब ने कहा है कि नमाज के बाद अपने घरों पर ही परिवार के साथ ईद की खुशियां मनाइये, गले मिलने व मित्रों, रिश्तेदारो के घर पर जाकर बधाई देने से परहेज करें | ना तो खुद किसी के घर जाएं ना ही किसी मित्र या रिश्तेदार को अपने घर पर बुलाएं इसी में हम सबकी व अपने प्यारे वतन की भलाई है |
          अपने संदेश के अंत में मुस्लिम धर्मगुरु मुफ्ती आफताब आलम ने कहा कि कोरोना वायरस जैसी खतरनाक महामारी से बचाव के लिए अब तक पूरे विश्व में कोई भी वैक्सीन या दवा नहीं बनी है, अतः सावधानी एवं एक दूसरे से दूरी बनाये रखना ही इसका एकमात्र बचाव व इलाज है, इसलिए सभी लोग इसका पालन करें |

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad