क्वारंटाइन प्रवासी की मौत - Ideal India News

Post Top Ad

क्वारंटाइन प्रवासी की मौत

Share This
#IIN



Dharmendra Seth and Dr. Manika Rav   
सुरेरी जौनपुर
 रामपुर सीएचसी में पेड़ के नीचे क्वारंटाइन प्रवासी की मौत हो गई। उसके स्वजनों का आरोप है कि इलाज के अभाव में उसकी मौत हुई है। 12 घंटे शव जस का तस पड़े रहने के बाद बिना सैंपल लिए प्रशासन ने शव की अंत्येष्टि करा दी। उसके कोरोना वायरस संक्रमित होने की आशंका से क्षेत्र में दहशत का माहौल बन गया है।
सुरेरी गांव निवासी अनुसूचित जाति का युवक पत्नी व बच्चों संग मुंबई से स्पेशल ट्रेन से 16 मई को वाराणसी पहुंचा। सपरिवार स्वास्थ्य परीक्षण कराने सीएचसी रामपुर पहुंचा। भीड़ अधिक होने से जांच नहीं हो सकी। ऐसे में वह परिवार संग सीएचसी परिसर में ही पेड़ के नीचे क्वारंटाइन हो गया। उसे सर्दी-जुकाम के साथ ही सांस लेने में दिक्कत थी। आरोप है कि संज्ञान में लाए जाने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग ने गंभीरता से नहीं लिया। बुधवार रात करीब आठ बजे उसकी हालत बिगड़ गई। एंबुलेंस न मिलने पर स्वजन निजी वाहन से इलाज के लिए भदोही के एक निजी अस्पताल ले गए। डाक्टर की सलाह पर जिला अस्पताल ले गए। वहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। स्वजन शव लेकर वापस सीएचसी आ गए। पुलिस व स्वास्थ्य विभाग को सूचना दी। प्रशासन ने 12 घंटे बाद शव को किट में लपेटकर दाह संस्कार कर देने की अनुमति दे दी। कोचारी गांव के समीप बसुही व वरुणा नदी के संगम स्थल संगोनाथ घाट पर दाह संस्कार कर दिया गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मुंबई से संग आए स्वजनों का सैंपल परीक्षण को ले लिया। प्रभारी चिकित्साधिकारी रामपुर डा. प्रभात यादव ने बताया कि शव का दाह संस्कार कराने के साथ ही क्वारंटाइन स्वजनों का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad