प्राचीन मंदिर के अवशेष मिलने से संत समाज में उल्लास-अयोध्या - Ideal India News

Post Top Ad

प्राचीन मंदिर के अवशेष मिलने से संत समाज में उल्लास-अयोध्या

Share This
#IIN



Dr. Tanveer Ahmad and Parshant Shukla
अयोध्या
श्रीरामजन्मभूमि परिसर में चल रहे समतलीकरण के दौरान बड़ी मात्रा में प्राचीन मंदिर के अवशेष मिलने से संत समाज में उल्लास है। इन सभी ने एक स्वर में कहा कि इतनी बहुमूल्य सामग्री मिलने से साबित हो गया कि अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर था, मंदिरों के इस शहर को उजाड़ा गया और देश की शीर्ष कोर्ट में सुनवाई के बाद साबित हो ही गया कि यहां मंदिर था।
रामजन्म भूमि क्षेत्र में मूर्तियां मिलने के बाद अयोध्या के संतों की प्रतिक्रिया आने लगीं। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने कहा कि यहां पर पौराणिक काम की दर्जनों खंडित मूर्तियों के साथ ही करीब पांच फुट ऊंचा शिवलिंग मिलने से तय हो गया कि यहां पर कई मंदिर थे। यहां पर तमाम नक्काशीदार मूर्तियां मिलने के साथ ही विशाल चक्र भी मिले हैं। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महामंत्री चंपत राय ने कहा कि मलबा हटाने के दौरान कई मूर्तियां और एक बड़ा शिवलिंग मिला है। राम मंदिर निर्माण के लिए बनाई गई ट्रस्ट श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र का कहना है कि समतलीकरण के दौरान काफी संख्या में पुरावशेष यथा देवी-देवताओं की खंडित मूर्तियां, पुष्प, कलश, आमलक, दोरजाम्ब आदि कलाकृतियां, मेहराब के पत्थर, 7 ब्लैक टच स्टोन के स्तम्भ, 8 रेड सैंड स्टोन के स्तंभ और 5 फिट आकार की नक्काशीदार शिवलिंग की आकृति मिली है।
हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि अब तो तय हो गया कि अयोध्या में सनातन धर्म का बोलबाला था। यहां पर खोदाई के दौरान एएसआई को पौराणिक वस्तुएं मिली थीं और आज भी यहां पर कुआ, खंभे तथा कसौटी मिल रहे हैं। रामजन्मभूमि स्थल पर खुदाई के दौरान मिले अवशेषों को रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने अमूल्य धरोहर बताया है। इन धरोहरों को संजोकर कर रखा जाएगा। उन्होंने कहा है कि अब जल्द ही अयोध्या में भव्य राम लला का मंदिर बनकर तैयार होगा।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad