गीत संगीत बनी जीवन की शैली - Ideal India News

Post Top Ad

गीत संगीत बनी जीवन की शैली

Share This
#IIN
Javed Alam and Rajesh kumar Gupta
जौनपुर। सरपतहां थाना क्षेत्र के जूड़ापुर के निवासी श्री कमलाकांत विश्वकर्मा जी गीत संगीत से बहुत लगाव रखते हैं। साथ साथ अपने कार्य काल में भी गीत संगीत को नहीं भूले। श्री कमलाकांत विश्वकर्मा जी अपनी पूरी पढ़ाई करने के बाद अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर जीआईसी त्यूनी देहरादून में सन् 1988 में नियुक्त हुए। इन्होंने कानपुर यूनिवर्सिटी से बीए तथा अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद से एम ए तथा बी.एड.की डिग्री प्राप्त किया। इसके तत्पश्चात 2011 में जीएच एस एस गढ़खेत बाकेश्वर जिले में हाईस्कूल के प्रधानाचार्य के पद पर कार्यरत रहे।2013 से 31 मार्च 2017 तक जीआईसी इंटर कालेज मालधनचौड़ जिला नैनीताल में प्रधानाध्यापक का पद संभाला। सेवानिवृत्त होने के बावजूद इन्होंने अपनी पसंदीदा गीत संगीत को भुलाई नहीं।श्री कमलाकांत विश्वकर्मा जी बचपन से ही गीत संगीत का लगाव था। पढ़ाई से लेकर अब तक बहुत लगन से गीत संगीत का गायन वाद्ययंत्रों के माध्यम से प्रस्तुत किया करते हैं। इनके गायन कला से पूरा माहौल रंग मंच में रमी रहती है।इस अवसर पत्रकार के.डी विश्वकर्मा ने पहुंच कर गीत संगीत तथा गायन कला का अवलोकन किया।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad