विकसित देशों की तुलना में भारत में कम हैं कैंसर रोगी - Ideal India News

Post Top Ad

विकसित देशों की तुलना में भारत में कम हैं कैंसर रोगी

Share This
#IIN
Mayank Jha and Anil Gupta
मुंबई। भारत में कैंसर का रोग भले ही हर साल लाखों जिंदगियां लील रहा हो, लेकिन दुनिया की तुलना में भारत में इसके रोगियों की संख्या अब भी एक तिहाई ही है। यदि सावधानी बरती जाए तो इसे और कम किया जा सकता है।
गांव के मुकाबले शहरों में कैंसर रोगी अधिक
मुंबई स्थित कैंसर के सबसे बड़े अस्पताल टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर के उपनिदेशक डॉ. पंकज चतुर्वेदी के अनुसार विकसित देशों की तुलना में भारत में कैंसर रोगियों की संख्या एक तिहाई ही होती है। यानी अमरीका जैसे विकसित देशों में यदि 100 में तीन व्यक्तियों को कैंसर होता है, तो भारत में 100 में सिर्फ एक को। इसके बावजूद भारत में तीस लाख लोग कैंसर से पीड़ित हैं, और हर साल 10 लाख नए रोगी इनमें जुड़ रहे हैं।
 चूंकि भारत की आबादी अधिक है। इसलिए यहां कैंसर रोगियों की संख्या अधिक मालूम पड़ती है। डॉ. चतुर्वेदी का मानना है कि देश में शहरीकरण बढ़ने के साथ-साथ यह रोग अपने पांव और पसारता जा रहा है। शहरों में कैंसर रोगियों की संख्या गांवों की तुलना में डेढ़ गुना अधिक होती है। क्योंकि शहरों का अनियंत्रित खान-पान एवं पाश्चात्य जीवन शैली कैंसर के विस्तार में सहायक हो रही है। 
कैंसर विशेषज्ञ चिकित्सकों एवं संसाधनों की कमी
जहां तक कैंसर उपचार सुविधाओं का सवाल है, भारत में भी इसके सारे उपचार मौजूद हैं। लेकिन कैंसर विशेषज्ञ चिकित्सकों एवं संसाधनों की कमी है। रेडियो थेरेपी एवं कीमो थेरेपी की सुविधाएं कम हैं। डॉ. चतुर्वेदी मानते हैं कि भारत जैसे देश में कोई व्यक्ति ऑपरेशन करवाने के लिए तो एक-दो बार मुंबई-दिल्ली जैसे बड़े शहरों में जा सकता है। लेकिन लंबे समय तक वहां रहकर रेडियो थेरेपी एवं कीमो थेरेपी के कोर्स कर पाना उसके लिए मुश्किल होता है। इसलिए भारत में इनकी सुविधाएं जिला स्तर पर, वह भी सस्ती दरों पर जुटाई जानी चाहिएं। ताकि रोगी अपने घर के आसपास रहते हुए इनका लाभ ले सके। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad