मैदानी लोगों को नहीं मिलेगी शीतलहर से निजात - Ideal India News

Post Top Ad

मैदानी लोगों को नहीं मिलेगी शीतलहर से निजात

Share This
#IIN
नई दिल्ली। उत्तर भारत में लगातार बदल रहा मौसम का रुख लोगों को परेशानी में डाल रहा है। मौसम विभाग की मानें तो पहाड़ों पर बर्फबारी के कारण बुधवार को तापमान में कमी आएगी। मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के अनुसार महाराष्ट्र के अलावा झारखंड और पश्चिम बंगाल में इस पूरे हफ्ते बारिश के आसार बने हैं। बताया गया कि उत्तरी पाकिस्तान की तरफ एक पश्चिमी विक्षोभ बना है। महाराष्ट्र के तटिय इलाकों में भी ऐसा ही चक्रवाती दबाव का क्षेत्र निर्मित हो रहा है। इसके अलावा असम के उपर भी साइक्लोनिक प्रेशर बना हुआ है। जनवरी खत्म हो गया है और फरवरी का महीना चल रहा है, लेकिन अब भी पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी के कारण मैदानी राज्यों में शीतलहर का प्रकोप जारी है। मौसम विभाग ने मंगलवार को जानकारी देते हुए बताया था कि कुछ राज्यों में अगले 24 घंटे बारिश होगी। इस राज्यों में महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और दक्षिण भारत के कई शहरों शामिल है, जिनमें भारी गरज के साथ बारिश होने की बात कही गई थी। बताया गया था कि महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र में बारिश जारी रहेगी। यह बारिश नांदेड, अकोला, चंद्रपूर जैसे शहरों पर देखी जा सकती है। पूर्वी मध्यप्रदेश, छत्तीगढ़ और ओडिशा के कुछ हिस्सों में अगले एक-दो दिनों में राज्यों के अलग-अलग शहरों में बारिश के आसार हैं। 5 फरवरी को मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में तूफानी बारिश हो सकती है और इसके बाद इसमें थोड़ी कमी आएगी। आइए जानते हैं, अलग-अलग राज्यों का हाल...पूर्वांचल में मंगलवार सुबह से ही बादलों की आवाजाही के बीच बादल देर रात पूरब की ओर कम आर्द्रता की वजह से बिना बूंदाबांदी किए ही लौट गए। फिर बुधवार की सुबह आसमान साफ रहा रहने के साथ ही धूप भी खिली और लोगों को इससे थोड़ी राहत मिली। बता दें कि पाकिस्‍तान के आसपास बादलों की और भी सक्रियता बनी हुई है। इसका पूर्वांचल तक अगले 24 से 48 तक असर पहुंचने की उम्‍मीद है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad